Loading...
Breaking News

लेख

सोने की चिड़िया भारत को भारत ही रहने दो – तालिबान ना बनाओ

डा. राधेश्याम द्विवेदी अवैध बांग्लादेशी हैं रोहिंग्‍या :- बौद्ध बहुल म्यांमार में करीब 10 लाख रोहिंग्या मुसलमान हैं. इनको मुख्य रूप से अवैध बांग्लादेशी प्रवासी माना जाता है. इनकी हिसक तथा घिनौनी कृत्यों को देखकर अहिंसक बौद्ध म्यांमार सरकार ने कई पीढ़ियों से रह रहे इस समुदाय के लोगों की नागरिकता छीन ली है. ...

Read More »

भारत-जापान के मध्य 15 समझौतों पर हस्ताक्षर

डा. राधेश्याम द्विवेदी भारत और जापान के सम्बन्ध हमेशा से काफ़ी मजबूत और स्थिर रहे हैं। जापान की संस्कृति पर भारत में जन्मे बौद्ध धर्म का स्पष्ट प्रभाव देखा जा सकता है। भारत के स्वतंत्रता संघर्ष के दौरान भी जापान की शाही सेना ने सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिन्द फौज को सहायता प्रदान की थी। भारत की ...

Read More »

पूर्वांचल के गौरव :डा. मुनि लाल उपाध्याय ‘सरस’ 

डा. राधेश्याम द्विवेदी उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले के बस्ती सदर तहसील के बहादुर व्लाक में नगर क्षेत्र में खड़ौवा खुर्द नामक गांव के आस पास इलाके में नगर राज्य में गौतम क्षत्रियों के पुरोहित के रूप में भारद्वाज गोत्रीय में इस वंश के पूर्वजों का आगमन के हुआ था ...

Read More »

प्रथम जन्मशती समारोह के अवसर पर पूर्वांचल उत्तर प्रदेश के जनप्रिय नेता  माधव प्रसाद त्रिपाठी

डा. राधेश्याम द्विवेदी पं. माधव प्रसाद त्रिपाठी का जन्म 12 सितम्बर 1917 को पूर्व बस्ती ( वर्तमान सिद्धार्थनगर) जिले के बांसी शहर के निकट तिवारीपुर नामक गांव में हुआ था। उनके पिता का नाम पं. सुरेश्वर प्र्रसाद त्रिपाठी था, जो एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे। माधो बाबू भारतीय जनसंध महत्वपूर्ण ...

Read More »

रोहिंग्या मुसलमान भारतीय नहीं अंतर्राष्टीय समस्या

डा. राधेश्याम द्विवेदी अवैध बांग्लादेशी हैं रोहिंग्या :- बौद्ध बहुल म्यांमार में करीब 10 लाख रोहिंग्या मुसलमान हैं. इनको मुख्य रूप से अवैध बांग्लादेशी प्रवासी माना जाता है. म्यांमार सरकार ने कई पीढ़ियों से रह रहे इस समुदाय के लोगों की नागरिकता छीन ली है. लगभग सभी रोहिंग्या म्यांमार के ...

Read More »

राष्ट्रीय अखण्डता का संवाहक स्वयंसेवक संघ

डा. राधेश्याम द्विवेदी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की जब स्थापना हुई ,उस समय अपने हिंदू समाज की स्थिति ऐसी थी कि जो उठता था वही हिंदू समाज पर आक्रमण करता था और यह दृश्य बना हुआ था कि जब कभी भी कोई आक्रमण होगा तो हिंदू मरेगा, हिंदू लूटेगा .यह एक ...

Read More »

पूर्वांचल के मजबूत स्तम्भ के रुप में शिव प्रताप शुक्ला

डा. राधेश्याम द्विवेदी जन्म व शिक्षा:  शिव प्रताप शुक्ल उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल खासकर गोरखपुर के आसपास के इलाकों में बीजेपी के अहम नेता माने जाते हैं. वह उत्तर प्रदेश से राज्यसभा सांसदव ग्रामीण विकास पर संसद की स्टैंडिंग कमिटी के सदस्य रहे हैं । 1989 से 1996 तक लगातार चार बार ...

Read More »

श्राद्ध कर्म

 डा. राधेश्याम द्विवेदी हिन्दू धर्म में तीन प्रकार के ऋण के बारे में बताया गया है, देव ऋण, ऋषि ऋण और पितृ ऋण। इन तीनों ऋण में पितृ ऋण सबसे बड़ा ऋण माना गया है। शास्त्रों में पितृ ऋण से मुक्ति के लिए यानि श्राद्ध कर्म का वर्णन किया गया ...

Read More »

यमुना पूजन से रामलीला का शुभारम्भ

डा. राधेश्याम द्विवेदी यमुना के शुद्धिकरण एवं निर्मलीकरण के लिए श्रीगुरु वशिष्ठ मानव सर्वांगीण विकास सेवा समिति आम जनता में वर्ष 1990 से सक्रिय है। श्री गुरु वशिष्ठ मानव सर्वांगीण विकास सेवा समिति के संस्थापक अध्यक्ष पण्डित अश्विनी कुमार मिश्र जी ने एक अनूठी पहल शुरु किया है। इनकी संस्था ...

Read More »

सादा जीवन उच्च विचार आसान नहीं

डा. राधेश्याम द्विवेदी जिसके जीवन में सादा जीवन-उच्च विचार नहीं है, वह इंसान न होकर बहुरूपिया और पाखण्डी है। वह संसार में भार स्वरुपा है। उसका अपना कोई स्वतंत्र अस्तित्व नहीं कहा जा सकता है।इंसान होने का ही अर्थ है मौलिकताओं से परिपूर्ण होना ।­ यह संसार एक तरह की ...

Read More »