Monday , November 19 2018
Loading...

लेख

भूख से मौत और उसके बाद

ज्यां द्रेज विजिटिंग प्रोफेसर, अर्थ-रु39याास्त्र विभाग, रांची विवि सिमडेगा जिले की संतो-ुनवजयाी कुमारी की भूख से मौत के बाद आज बारह महीने बीत चुके हैं. इन बारह महीनों में -हजयारखंड में भूख से मौतों की कम-ंउचयसे-ंउचयकम पंद्रह और खबरें आयीं हैं. -रु39याायद किसी राजनीतिक दल या अतिसक्रिय पत्रकार की कृपा ...

Read More »

जरूरी है चुनावी जागरूकता

चक्षु रॉय लेजिस्लेटिव और सिविक इंगेजमेंट इनी-िरु39याएटिव्स के प्रमुख पीआरएस इंडिया आपराधिक मामलों में फंसे नेताओं के चुनाव लड़ने पर फैसला देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने इसे संसद के विवेक पर छोड़ दिया है. अब समस्या यह है कि क्या संसद खुद कोई ऐसा कानून बनायेगी, जिससे कि संसद को ...

Read More »

संविदा कृ-िुनवजया व सरकार की भूमिका

स्मृति -रु39यार्मा पब्लिक पॉलिसी प्रोफे-रु39यानल यह सुनि-िरु39यचत करने के लिए कि किसानों को उनके उत्पादों की बेहतर कीमत मिले और कटनी-ंउचयदौनी के बाद होनेवाले नुकसानों में कमी हो, सरकार किसानों को कृ-िुनवजया उद्योगों से जोड़ने का प्रयास करती रही है. संविदा कृ-िुनवजया इसी दि-रु39याा में एक अच्छा कदम है. संविदा ...

Read More »

हिन्दुओं को विभाजित करने का अपराध किसने किया?

एल एस हरदेनिया पिछले दिनों दो ऐसी घटनाएं हुई हैं जिन्होंने हमारे दे-रु39या को बुरी तरह से हिला दिया है। ये दो घटनाएं हैं मानवाधिकारों के प्रति समर्पित पांच बुद्घिजीवियों की गिरफ्तारी और तथाकथित सवर्णों का रा-ुनवजयट्रव्यापी आंदोलन। जिन पांच व्यक्तियों की गिरफ्तारी की गई वे हंै अरूण फरेरा, गौतम ...

Read More »

अलोकतांत्रिक भारत और आरक्षण

केसी त्यागी राष्ट्रीय प्रवक्ता, जदयू गत सप्ताह एससी-एसटी एक्ट में संशोधन का विरोध करते सवर्णों द्वारा ‘भारत बंद’ का आह्वान किया गया था. इस मुद्दे पर भी बयानबाजी के जरिये अगड़ी-पिछड़ी जातियों को बांटने की राजनीतिक पहल हुई. यह पहली घटना नहीं है. पिछड़ों को प्राप्त आरक्षण समाप्त करने, अगड़ों ...

Read More »

हिंदी की ताकत

संजीव कुमार कथाकार बताते हैं कि प्रूफ-पठन के चरण में हिंदी के आधुनिक क्लासिक ‘मैला आंचल’ के साथ एक दुर्घटना हो गयी थी. प्रूफरीडर ने अपनी समझ से हर ‘गलत’ वर्तनी को ठीक कर दिया था. उसे इस बात का कोई गुमान न रहा होगा कि इसके लेखक फणीश्वर नाथ ...

Read More »

अब समलैंगिकता अपराध नहीं

शीतला सिंह सर्वोच्च न्यायालय की संविधान पीठ ने अंग्रेजों द्वारा बनायी गयी भारतीय दण्ड विधि की धारा-377 को असंवैधानिक ठहरा दिया है, जिसके बाद दो बालिगों द्वारा सहमति से बनाया गया अप्राकृतिक या समलैंगिक यौन सम्बन्ध, जो पहले अपराध था, अपराध नहीं रह गया है। न्यायालय का मानना है कि ...

Read More »

जरूरत पूर्ण जाति जनगणना की

उपेन्द्र प्रसाद ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा देने के बाद मोदी सरकार अब आगामी दस वर्षीय जनगणना में ओबीसी के आंकड़े जुटाने की बात कर रही है। यह जनगणना 2021 में होनी है और उसके पहले 2019 में लोकसभा के आमचुनाव होंगे, जो यह तय करेंगे कि मोदी सरकार आगे ...

Read More »

जनतांत्रिक राजनीति की खोज

मनींद्र नाथ ठाकुर एसोसिएट प्रोफेसर, जेएनयू जनतंत्र को और सफल कैसे बनाया जाये? जनतंत्र की सफलता केवल इस बात से नहीं हो सकती है कि हर पांच साल में चुनाव हो जाये, चुनाव निष्पक्ष हो और राज्य की संस्थाएं ठीक चलती रहें. ये तो जनतंत्र की न्यूनतम शर्तें हैं, यथेष्ट ...

Read More »

श्रीकृष्ण भक्ति में रासलीला

डा. राधेश्याम  द्विवेदी श्रीकृष्ण भारत की पुण्य भूमि में अवतरित हुये थे। वे भगवान विष्णु के 8वें अवतार और हिन्दू धर्म के ईष्ट ईश्वर हैं। कन्हैया, श्याम, केशव, द्वारकेश या द्वारकाधीश, वासुदेव आदि नामों से भी उनको जाना जाता हैं। वह निष्काम कर्मयोगी, एक आदर्श दार्शनिक, स्थितप्रज्ञ , सोलह कलाओं ...

Read More »