Saturday , February 23 2019
Loading...

लेख

अपने तरीके सुधारें दोनों पक्ष

पवन के वर्मा लेखक एवं पूर्व प्र-रु39याासक राफेल सौदे में कुछ स्प-ुनवजयटता की आव-रु39ययकता जरूर महसूस होती है. इसमें कोई -रु39याक नहीं कि भारतीय वायुसेना को आधुनिक लड़ाकू विमानों की बहुत जरूरत है और उन्हें हासिल करने जैसे हमारी रा-ुनवजयट्रीय सुरक्षा से संबद्ध अहम फैसले टालते जाने की यूपीए सरकार ...

Read More »

क्यों नाराज हैं अन्नदाता

आ-रु39याुतो-ुनवजया चतुर्वेदी दो अक्तूबर को महात्मा गांधी और लाल बहादुर -रु39याास्त्री की जयंती पर किसान दिल्ली में धरने पर बैठे थे. हम सब ने पुलिस से उनके संघ-ुनवजर्या की तस्वीरें देखीं. जय जवान जय किसान का नारा दे-रु39या को देने वाले पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर -रु39याास्त्री के जन्मदिन के दिन ...

Read More »

सुमित्रा महाजन का आरक्षण ज्ञान

उपेनर््ी प्रसाद लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने अपने आरक्षण ज्ञान का एक बार फिर रांची की एक बैठक में परिचय दिया है। उस बैठक में सरकारी सेवाओं और शैक्षिक संस्थाओं मे मिल रहे आरक्षण की चर्चा कर रही थीं और कहा कि बाबा साहेब भीमराव आम्बेडकर चाहते थे कि आरक्षण ...

Read More »

श्रीराम वनगमन मार्ग के प्रमुख स्थान

डा. राधेश्याम द्विवेदी मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्रीराम को 14 वर्ष का वनवास हुआ था। इस काल में श्रीराम ने कई ऋषि-मुनियों से शिक्षा और विद्या ग्रहण की, तपस्या की और भारत के आदिवासी, वनवासी और तमाम तरह के भारतीय समाज को संगठितकर उन्हें धर्म के मार्ग पर चलाया था। संपूर्ण ...

Read More »

राष्ट्रवाद के प्रबल विरोधी महात्मा गांधी

डा. राधेश्याम द्विवेदी राष्ट्रवाद लोगों की आस्था का नाम :- राष्ट्रवाद लोगों के किसी समूह की उस आस्था का नाम है जिसके तहत वे ख़ुद को साझा इतिहास, परम्परा, भाषा, जातीयता और संस्कृति के आधार पर एकजुट मानते हैं। इन्हीं बंधनों के कारण वे इस निष्कर्ष पर पहुँचते हैं कि ...

Read More »

भूख से मौत और उसके बाद

ज्यां द्रेज विजिटिंग प्रोफेसर, अर्थ-रु39याास्त्र विभाग, रांची विवि सिमडेगा जिले की संतो-ुनवजयाी कुमारी की भूख से मौत के बाद आज बारह महीने बीत चुके हैं. इन बारह महीनों में -हजयारखंड में भूख से मौतों की कम-ंउचयसे-ंउचयकम पंद्रह और खबरें आयीं हैं. -रु39याायद किसी राजनीतिक दल या अतिसक्रिय पत्रकार की कृपा ...

Read More »

जरूरी है चुनावी जागरूकता

चक्षु रॉय लेजिस्लेटिव और सिविक इंगेजमेंट इनी-िरु39याएटिव्स के प्रमुख पीआरएस इंडिया आपराधिक मामलों में फंसे नेताओं के चुनाव लड़ने पर फैसला देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने इसे संसद के विवेक पर छोड़ दिया है. अब समस्या यह है कि क्या संसद खुद कोई ऐसा कानून बनायेगी, जिससे कि संसद को ...

Read More »

संविदा कृ-िुनवजया व सरकार की भूमिका

स्मृति -रु39यार्मा पब्लिक पॉलिसी प्रोफे-रु39यानल यह सुनि-िरु39यचत करने के लिए कि किसानों को उनके उत्पादों की बेहतर कीमत मिले और कटनी-ंउचयदौनी के बाद होनेवाले नुकसानों में कमी हो, सरकार किसानों को कृ-िुनवजया उद्योगों से जोड़ने का प्रयास करती रही है. संविदा कृ-िुनवजया इसी दि-रु39याा में एक अच्छा कदम है. संविदा ...

Read More »

हिन्दुओं को विभाजित करने का अपराध किसने किया?

एल एस हरदेनिया पिछले दिनों दो ऐसी घटनाएं हुई हैं जिन्होंने हमारे दे-रु39या को बुरी तरह से हिला दिया है। ये दो घटनाएं हैं मानवाधिकारों के प्रति समर्पित पांच बुद्घिजीवियों की गिरफ्तारी और तथाकथित सवर्णों का रा-ुनवजयट्रव्यापी आंदोलन। जिन पांच व्यक्तियों की गिरफ्तारी की गई वे हंै अरूण फरेरा, गौतम ...

Read More »

अलोकतांत्रिक भारत और आरक्षण

केसी त्यागी राष्ट्रीय प्रवक्ता, जदयू गत सप्ताह एससी-एसटी एक्ट में संशोधन का विरोध करते सवर्णों द्वारा ‘भारत बंद’ का आह्वान किया गया था. इस मुद्दे पर भी बयानबाजी के जरिये अगड़ी-पिछड़ी जातियों को बांटने की राजनीतिक पहल हुई. यह पहली घटना नहीं है. पिछड़ों को प्राप्त आरक्षण समाप्त करने, अगड़ों ...

Read More »