Loading...
Breaking News

लेख

स्वास्थ्य सेवाओं की दुर्गति-1

ललित सुरजन मैं आज के समय में ऐसी घनघोर आदर्शवादी स्थिति की वकालत नहीं करना चाहता| लेकिन सरकार ध्यान दे तो एक अवधारणा को अवश्य अंजाम दिया जा सकता है| इसके लिए शायद कलाम साहब की पुरा योजना को थोड़ा संशोधित करना पड़ेगा| छत्तीसगढ़ में लगभग हर विकासखंड को तहसील ...

Read More »

डॉ. अमर्त्य सेन डाक्यूमेंट्री और सेंसर बोर्ड

एल.एस. हरदेनिया डॉ. सेन के शब्दों पर प्रतिबंध लगाने का अर्थ सम्पूर्ण देश की अभिव्यक्ति की आजादी पर प्रतिबंध लगाने के समान है| डॉ. सेन को अपनी बात कहने से इसलिए रोका जा रहा है क्योंकि वे दक्षिणपंथी विचारधारा के घोर विरोधी हैं और समय-समय पर इस तरह की प्रवृत्तियों ...

Read More »

डिजिटल इंडियाः एक नजर

रीतिका खेड़ा (आइआइटी, दिल्ली) जब सरकारी स्कूलों में, सरकार की ओर से इंटरनेट सुविधा उपलब्ध करवायी जायेगी, तो इसे किस उपयोग में लाया जायेगा? सरकारी स्कूलों में इंटरनेट आने से आप और हम शायद यह जवाब देंगे कि इंटरनेट सुविधा बच्चों की पढ़ाई में इस्तेमाल होगी| आजकल के संपन्न शहरी ...

Read More »

शह का हासिल

राजस्थान में कुख्यात अपराधी आनंदपाल सिंह के मारे जाने के बाद पैदा हुए हालात यह बताने के लिए काफी हैं कि अपराधियों को राजनीतिक शह देने या तात्कालिक फायदे के लिए उनका इस्तेमाल करने का हासिल क्या हो सकता है| इसके अलावा, जब अपराध की दुनिया में वर्चस्व कायम करने ...

Read More »

ये वक्त की आवाज है मिलकर चलो

अमरनाथ यात्रियों पर हुए आतंकी हमले के बाद अब कश्मीर में दोषियों को पकड़ने के लिए तेजी से अभियान चलाया जा रहा है| आतंकी संगठन लश्करे तैयबा के इस्माइल को इस हमले का मास्टरमांइड माना जा रहा है| सूत्रों के मुताबिक इस्माइल के साथ तीन और लोगों ने मिलकर बस ...

Read More »

बस देश को बना दिया सेल्फीस्तान’

पुष्परंजन सेल्फी से मौत के मामले में भारत पूरी दुनियां में टॉप पर है| पाकिस्तान दूसरे, और अमेरिका तीसरे नंबर पर है| सेल्फी के लिए, सरकार को कुछ नहीं करना पड़ा, बस मोदी जी को सेल्फीयाते’ देखा, और पूरा देश नकल के इस महा मैराथन में शामिल हो गया| 3 ...

Read More »

कोविन्द, दलित राजनीति और हिन्दू राष्ट्रवाद

राम पुनियानी देश में ऐसे कई दलित नेता हैं जो हिन्दू राष्ट्रवादी राजनीति के पिछलग्गू हैं और दलितों के हितों को नुकसान पहुंचा रहे हैं| दूसरी ओर, ऐसे गैर-दलित नेता भी हैं जो अंबेडकर के आदर्शों में सच्चे मन से विश्वास रखते हैं और दलितों के कल्याण के लिए काम ...

Read More »

भ्रष्टाचार किसी भी नेता का अधिकार नहीं है

शेष नारायण सिंह इस बात में कोई शक नहीं है कि किसी भी पूंजीवादी अर्थव्यवस्था पर आधारित लोकतांत्रिक देश में अगर भ्रष्टाचार पर पूरी तरह से नकेल न लगाई जाये तो देश तबाह हो जाते हैं| पूंजीवादी व्यवस्था में आर्थिक खुशहाली की पहली शर्त है कि देश में भ्रष्टाचार पर ...

Read More »

कैसे संभव हो निष्कलुष समाज की व्यवस्था

शीतला सिंह जब तक अनुचित लाभ कमाने की प्रवृत्ति के चलते हो रहे अपराधों के कारण नहीं खोजे जाते, उनका निदान या उपचार संभव नहीं है| इस अपराधों में आतंकवाद को भी जोड़ दिया जाये, तो वह दुनिया भर में बढ़ा है और निर्दोषों की जानें लेने का सबसे क्रूर ...

Read More »

बिहार की राजनीति पर अनिश्चय का साया

उपेन्द्र प्रसाद अभी से नीतीश कुमार पर दबाव पड़ने लगा है कि वे लालू के दोनों बेटों को मंत्री पद से हटा दें| लेकिन यदि वे ऐसा करते हैं, तो लालू द्वारा समर्थन वापस लिए जाने पर उनकी सरकार या तो गिर जाएगी या उन्हें भाजपा के समर्थन के सहारे ...

Read More »