Breaking News

लेख

आतंकी रोहिग्यां को मोहरा बना सकते हैं

डा. राधेश्याम द्विवेदी गरीबी-बदहाली के बावजूद भारत बांग्लादेश सहित अनेक देशों के लिए खतरा :- रोहिंग्या मुसलमानों का अवैध रूप से कई देशों में रहना अन्तरराष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा मसला है। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने कहा था कि करीब 4,20,000 रोहिंग्या मुसलमानों को म्यांमार को वापस लेना होगा। ...

Read More »

बस्ती को बिकसित बनाने के राह में रोड़ा: सामंजस्य का अभाव

डा. राधेश्याम द्विवेदी बस्तीका इतिहासः- प्राचीन काल में बस्ती के चारों ओर कोशल देश का हुआ करता था। शतपथ ब्राह्मण के एक सूत्र में इसका उल्लेख हुआ है। राम के बडे पुत्र कुश को कोशल अयोध्या तथा छोटे पुत्र लव को श्रावस्ती का भार दिया गया था लक्ष्मण के पुत्र ...

Read More »

भारत को विकसित देश ना बनने देने की विदेशी शक्तियों की साजिस

डा. राधेश्याम द्विवेदी विकास की तीन श्रेणियां :- विकसित या औद्योगिक देश, उन देश को कहा जाता है जिनका कुछ मानकों के अनुसार उच्च विकास दर होता है। इसमें अक्सर आर्थिक मानकों को शामिल किया जाता है। जिन देशों का प्रति व्यक्ति आय या प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद ज्यादा है वो विकसित या ...

Read More »

भारत म्यमार से कुछ तो सबक ले

डा. राधेश्याम द्विवेदी बौद्ध देश बर्मा:- भारतीय उप महाद्वीप में एक छोटा सा देश बर्मा (म्यांमार) है। यह कभी भारत का ही अंग हुआ करता था। इसे अंतर्राष्ट्रीय नक्शे में देखने के लिए माइक्रोस्कोप की भी जरूरत पड़ सकती है। भारत की सर जमीन से निकला बौद्ध धर्म चीन और ...

Read More »

समाजिक व प्राकृतिक संतुलन के लिए पितृ पक्ष का आयोजन

डा. राधेश्याम द्विवेदी जेठ-आषाढ़ की भीषण गर्मी और बरसात के सावन-भादौ महीनों में अतिवृष्टि होने से मानव परिवेश तथा पर्यावरण में काफी परिवर्तन व बदलाव देखने को मिलता है। इसे संतुलित एवं सामान्य करने के लिए हमारे पूर्वजों एवं मनीषियों ने अश्विन (क्वार) मास में दो महत्वपूर्ण एवं शोधपरक पक्ष ...

Read More »

भारत में खानाबदोश बाबरिया गिरोह के अपराधिक चरित्र

डा. राधेश्याम द्विवेदी उपेक्षित खानाबदोश जातियों के दो प्रमुख वर्ग:- उपेक्षित खानाबदोश जातियों को 2 वर्गा में बाँट सकते हैं – 1.धुमक्कड.-व्यवसायी जातियाँ :- गडोलिया लुहार, बालदिया एवं बनजारा गाड़ोलिया आदि। लुहार मूलत: लुहार नामक शिल्पी जाति की एक शाखा रहे हैं। इनका कार्य मुख्यत: लौह-धातु के कृषि उपकरणों का ...

Read More »

भारत में न्यायिक प्रणाली, समस्याएं और सुधार

एडवोकेट डा. राधेश्याम द्विवेदी लोकतांत्रिक भारत सरकार की तीन स्वतंत्र शाखाएं हैं – कार्यपालिका, विधायिका और न्यायपालिका। भारतीय न्यायिक प्रणाली अंग्रेजों ने औपनिवेशिक शासन के दौरान बनाई थी। इसको आम कानून व्यवस्था के रुप में जाना जाता है जिसमें न्यायाधीश अपने फैसलों, आदेशों और निर्णयों से कानून का विकास करते ...

Read More »

सोने की चिड़िया भारत को भारत ही रहने दो – तालिबान ना बनाओ

डा. राधेश्याम द्विवेदी अवैध बांग्लादेशी हैं रोहिंग्‍या :- बौद्ध बहुल म्यांमार में करीब 10 लाख रोहिंग्या मुसलमान हैं. इनको मुख्य रूप से अवैध बांग्लादेशी प्रवासी माना जाता है. इनकी हिसक तथा घिनौनी कृत्यों को देखकर अहिंसक बौद्ध म्यांमार सरकार ने कई पीढ़ियों से रह रहे इस समुदाय के लोगों की नागरिकता छीन ली है. ...

Read More »

भारत-जापान के मध्य 15 समझौतों पर हस्ताक्षर

डा. राधेश्याम द्विवेदी भारत और जापान के सम्बन्ध हमेशा से काफ़ी मजबूत और स्थिर रहे हैं। जापान की संस्कृति पर भारत में जन्मे बौद्ध धर्म का स्पष्ट प्रभाव देखा जा सकता है। भारत के स्वतंत्रता संघर्ष के दौरान भी जापान की शाही सेना ने सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिन्द फौज को सहायता प्रदान की थी। भारत की ...

Read More »

पूर्वांचल के गौरव :डा. मुनि लाल उपाध्याय ‘सरस’ 

डा. राधेश्याम द्विवेदी उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले के बस्ती सदर तहसील के बहादुर व्लाक में नगर क्षेत्र में खड़ौवा खुर्द नामक गांव के आस पास इलाके में नगर राज्य में गौतम क्षत्रियों के पुरोहित के रूप में भारद्वाज गोत्रीय में इस वंश के पूर्वजों का आगमन के हुआ था ...

Read More »