Breaking News

धर्म कर्म

Navratri SPECIAL : कोलकाता में चॉकलेट से बनाई मूर्ति

नवरात्र‍ि का शुभारंभ हो चुका है. पूरे देश में नवरात्र‍ि बड़े ही धूमधाम से मनाई जाती है. पर कोलकाता में इसे बड़े स्तर पर मनाया जाता है. हर घर में मां दुर्गा की प्रतिमा स्थापित की जाती है और 9 दिन मां की अराधना विधिपूर्वक की जाती है. कोलकाता की दुर्गा पूजा में एक ...

Read More »

Navratri आज से हुए शुरू, जानें शुभ मुहूर्त और भी काफी चीज़े

शारदीय नवरात्र इस बार 21 सितंबर से शुरू हो रहा है. नवरात्र के नौ दिन में मां अपने भक्तों पर दिल खोलकर आर्शीवाद बरसाती हैं. नवरात्र के नौ दिनों में मां के नौ रूपों की पूजा की जाती है. शुभ मुहूर्त ज्योतिषाचार्य शैलेंद्र पांडेय के अनुसार 21 सितंबर को कलश ...

Read More »

समाजिक व प्राकृतिक संतुलन के लिए पितृ पक्ष का आयोजन

डा. राधेश्याम द्विवेदी जेठ-आषाढ़ की भीषण गर्मी और बरसात के सावन-भादौ महीनों में अतिवृष्टि होने से मानव परिवेश तथा पर्यावरण में काफी परिवर्तन व बदलाव देखने को मिलता है। इसे संतुलित एवं सामान्य करने के लिए हमारे पूर्वजों एवं मनीषियों ने अश्विन (क्वार) मास में दो महत्वपूर्ण एवं शोधपरक पक्ष ...

Read More »

शारदीय नवरात्र गुरुवार से होंगे शुरू…

महालया मांगलिक पर्व दुर्गा पूजा से सात दिन पहले नए चांद के महत्व को दर्शाता है. माना जाता है कि इसके साथ ही त्योहारों का मौसम शुरू होता है और यह हमारे जीवन में उल्लास, शांति और समृद्धि लेकर आता है. महालय का पर्व नवरात्र के प्रारंभ और पितृपक्ष के ...

Read More »

विश्वकर्मा पूजा: सिर्फ 12:54 बजे तक ही है शुभ मुहूर्त, ऐसे पूजा करने पे पूरी हो सकती है मनोकानना

आज विश्वकर्मा पूजा है. लोग भगवान विश्वकर्मा की मूर्ति स्थापित करते हैं और उनकी पूजा-अर्चना करते हैं. विश्वकर्मा को दुनिया को सबसे पहला इंजीनियर और वास्तुकार माना जाता है. इसलिए इस दिन उद्योगों, फेक्ट्र‍ियों और हर तरह के मशीन की पूजा की जाती है. आश्विन कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा को ...

Read More »

  पितृदेव चालीसा

आचार्य डा. राधेश्याम द्विवेदी दोहा गणपत गौरि मनाइके और गुरु को आज । पितर देव रक्षा करो  पूर्ण करो सब काज।। हे पितरदेव हे देवपितर दे दो शुभाशीर्वाद। चरणन शीश नवा रहा रखदो सिर पर हाथ।। चौपाई पितर देव करो मार्ग उजागर, चरणन रज दें मुक्ति सागर। परमोपकार  पितरदेव कीन्हा, ...

Read More »

श्राद्ध कर्म

 डा. राधेश्याम द्विवेदी हिन्दू धर्म में तीन प्रकार के ऋण के बारे में बताया गया है, देव ऋण, ऋषि ऋण और पितृ ऋण। इन तीनों ऋण में पितृ ऋण सबसे बड़ा ऋण माना गया है। शास्त्रों में पितृ ऋण से मुक्ति के लिए यानि श्राद्ध कर्म का वर्णन किया गया ...

Read More »

गणपति विसर्जन: जानें शुभ मुहूर्त, विध‍ि और तरीका

आज भगवान गणेश का विसर्जन होगा. इस बार गणपति ने अपने भक्तों के साथ 10 दिन नहीं बल्क‍ि 11 दिन बिताए. हर साल गणपति अपने जन्मदिन यानी कि गणेश चतुर्थी पर अपने भक्तों के घर पधारते हैं और अनन्त चतुर्दशी के दिन इनका विसर्जन होता है. भगवान गणेश जल तत्‍व ...

Read More »

यमुना पूजन से रामलीला का शुभारम्भ

डा. राधेश्याम द्विवेदी यमुना के शुद्धिकरण एवं निर्मलीकरण के लिए श्रीगुरु वशिष्ठ मानव सर्वांगीण विकास सेवा समिति आम जनता में वर्ष 1990 से सक्रिय है। श्री गुरु वशिष्ठ मानव सर्वांगीण विकास सेवा समिति के संस्थापक अध्यक्ष पण्डित अश्विनी कुमार मिश्र जी ने एक अनूठी पहल शुरु किया है। इनकी संस्था ...

Read More »

शिव एक विशिष्ट देव

डा. राधेश्याम द्विवेदी शिव हिन्दू धर्म के प्रमुख देवताओं में से हैं। वे त्रिदेवों में एक देव हैं। इन्हें देवों के देव भी कहते हैं। इन्हें महादेव, भोलेनाथ, शंकर, महेश, रुद्र, नीलकंठ के नाम से भी जाना जाता है। तंत्र साधना में इन्हे ‘भैरव’ के नाम से भी जाना जाता है।  वेद में इनका नाम ‘रुद्र’ है। यह ...

Read More »