Breaking News

कैसे रखें खुद को Fit & Helathy, जानें ये टिप्स, पढ़ें सिर्फ 2 मिनट में

आज हमारे पास पैसा है, तकनीक है, सुख-सुविधओं के सारे साजोसामान हैं हम तेजी से तरक्की कर रहे हैं मगर एक मामले में हम लगातार पिछड़ते जा रहे हैं, वह है स्वास्थ्य का मामलाआज खेलने-कूदने की आयु में ही बच्चे उन बीमारियों के शिकार हो रहे हैं, जो कभी बुढ़ापे की बीमारी कहीं जाती थी इसकी वजह है, हमारे खान-पान  रहन-सहन में आए परिवर्तन के कारण  आज हमारे पास ना तो खाने-पीने का कोई निश्चित समय रहा है, ना ही सोने-उठने का कार्यालय में ड्यूट अवर्स बदल गए हैं कभी हम तड़के तारों की छांव में कार्यालय भागते हैं तो कभी चिलचिलाती धूप में सड़क नापते हैं

ऐसे में महत्वपूर्ण है कि सब कामों के साथ-साथ कुछ समय खुद अपने लिए भी निकाला जाए भले ही पांच मिनट खुद के लिए निकालें, लेकिन समय जरूर निकालें  अपने बॉडी के बारे में सोचें कि आप अपने बॉडी से क्या कार्य ले रहे हैं  उसके बदले बॉडी को वापस कितनी ऊर्जा  आराम दे रहे हैं

यहां हम कुछ ऐसी बातों को शामिल कर सकते हैं, जिन पर अमल कर खुद को हम फिट रख सकते हैं-

आज हमारा सोने का वक्त तय नहीं है देर रात सोते हैं या फिर रात भर कार्य करते हैं  दिन में बस्तर पर पसर जाते हैं कुदरत ने रात बॉडी को आराम देने के लिए बनाई है, लेकिन बदले ज़िंदगी स्तर में अब उसके मायने बदल गए हैं आपके बॉडी को निश्चित आराम की आवश्यकता है इसलिए नींद भले ही कभी भी लें, लेकिन बॉडी को आराम जरूर दें

यह भी पढ़ें:   नहीं करे ये सस्ते और घरेलू उपचार, होता है नुकसान
Loading...
loading...

कार्य का तनाव  परिवार की जरूरतों के कारण हमारे दिमाग में हमेशा कुछ ना कुछ चलता रहता हैयहां तक कि पार्क में टहलते हुए या बिस्तर पर आराम करते हुए भी हमारा दिमाग चलायमान रहता है यह स्थिति तनाव को बढ़ाती है इससे ब्लड प्रेशर समेत कई बीमारियों हमें घेर लेती हैं इसलिए बॉडी के साथ-साथ दिमाग को भी आराम करने का मौका दें

– ज़िंदगी शैली बदलने का सबसे बड़ा प्रभाव हमारे खान-पान पर हुआ है एकल परिवार होने  पति-पत्नी, दोनों के कार्य पर होने के कारण पेट भरने के लिए हम मार्केट पर निर्भर हो गए हैं इसके अतिरिक्त वीकेंड पर बाहर भोजन करना एक फैशन बन गया है खाने-पीने की आदत हमारे बॉडी के लिए बहुत हानिकारक है इसलिए सप्ताह में कम से कम एक दिन भोजन ना करें, अगर कर रहे हैं तो बहुत सादा  हल्का खाना लेंकार्यालय में कार्य करते हुए या घर पर टीवी देखते हुए कमर को सीधा रखें कार्यालय में बीच-बीच में उठकर बॉडी को सीधा करें  हाथ-पैरों को इधर-उधर घुमा कर बॉडी को तनाव मुक्त करें  आज हर कार्य में चुनौती है खुद को साबित करने या आगे बढ़ने के लिए नितनए चैलेंज मिलते रहते हैं तकनीक तेजी से बदल रही है युवा पीढ़ी तेज दिमाग के साथ आपको चुनौती देती नजर आएगीइस चुनौती को स्वीकार करते हुए कभी भी खुद को निर्बल ना समझें धैर्य के साथ हर दशा का सामना करें  तमाम चुनौतियों का सामना करते हुए कई बार निराशा हमें आ घेरती है हमें लगता है कि अब हमारा कुछ नहीं हो सकता, या यह कार्य हमसे नहीं हो सकता जबकि ऐसा कुछ नहीं है, जो आप कर नहीं सकते अपने आसपास हंसी-खुशी का माहौल बनाकर रखें कुछ इन छोटी-छोटी बातों को ध्यान में रखकर आप आपने ज़िंदगी से बड़ा तनाव समाप्त करके ऊर्जावान ज़िंदगी जी सकते हैं  आने वाली पीढ़ी को भी एक स्वस्थ्य ज़िंदगी की दिशा दिखा सकते हैं

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
यह भी पढ़ें:   मुंबई के लोग रहते हैं सबसे ज्यादा तनाव में, ऐसा क्यों ?
Loading...
loading...