सुप्रीम न्यायालय ने मांगी जस्टिस लोया की पोस्टमार्टम रिपोर्ट

विशेष सीबीआई जज जस्टिस बीएच जोया की तथाकथित संदिग्ध मौत को गंभीर मामला बताते हुए सुप्रीम न्यायालय ने शुक्रवार को महाराष्ट्र गवर्नमेंट से पोस्टमार्टम रिपोर्ट मांगी है. जस्टिस लोया सोहराबुद्दीन शेख एनकाउंटर मामले की सुनवाई कर रहे थे. सोमवार को मामले की अगली सुनवाई होगी. जस्टिस अरुण मिश्रा  एमएम शांतनागोदार की पीठ ने बोला कि यह गंभीर मामला है.

महाराष्ट्र गवर्नमेंट पोस्टमार्टम रिपोर्ट  अन्य जरूरी दस्तावेज 15 जनवरी तक जमा करे. बांबे लायर्स एसोसिएशन के प्रतिनिधि दुष्यंत देव ने न्यायालय में बोला कि न्यायालय इस मामले की सुनवाई कर रहा है, इसलिए सुप्रीम न्यायालय इसकी सुनवाई न करे. इस पर बेंच ने बोला कि वह बताएं कि न्यायालय इस न्यायालय की सुनवाई क्यों न करे. इस पर देव ने बोला कि अगर सुप्रीम न्यायालय इस पर सुनवाई करेगा तो न्यायालय में चल रही सुनवाई में उलझाव होगा.

न्यायालय में मौजूद एक अन्य एडवोकेट इंदिरा जय सिंह ने बोला कि बांबे लायर्स एसोसिएशन ने उन्हें आदेश दिया है कि वे न्यायालय से गुहार लगाएं कि सुप्रीम न्यायालय इस केस की सुनवाई न करे. इस मामले में न्यायालय पहले ही दो आदेश पारित कर चुका है. एक नोटिस जारी करने संबंधित  दूसरा 23 जनवरी के लिए इसकी लिस्टिंग करके. इस पर सुप्रीम न्यायालय ने कहा, हम देखेंगे.आपकी आपत्तियों पर विचार करेंगे. यह गंभीर मामला है.

यह भी पढ़ें:   तेजस्‍वी यादव के समर्थकों ने की मीडियाकर्मियों से मारपीट, बताया गुंडा
Loading...
loading...

दो याचिकाओं पर होगी सुनवाई

कांग्रेस नेता तेहसीन पूनावाला की ओर से पेश एडवोकेट वरिंदर कुमार शर्मा ने कहा, यह एक जज की संदिग्ध मृत्यु का मामला है, जो एक संवेदनशील केस की सुनवाई कर रहे थे. इसकी तुरंत जांच की आवश्यकता है. सुप्रीम न्यायालय पूनावाला  महाराष्ट्र के पत्रकार बीआर लोन की दो याचिकाओं पर सुनवाई करने पर राजी हुआ है. इन याचिकाओं मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की गई है.

2014 में हुई थी मृत्यु

एक दिसंबर, 2014 को नागपुर में एक सहकर्मी की बेटी के विवाह समारोह में लोया की दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई थी. यह मामला पिछले वर्ष चर्चा में आया था जब लोया की बहन ने आरोप लगाया था कि यह मौत संदिग्ध हालात में हुई थी  इस केस सोहराबुद्दीन केस से जुड़ा है.

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
यह भी पढ़ें:   बीसीआई को CJI ने इस बात पे दिलाया यकीन
Loading...
loading...