Tuesday , April 24 2018
Loading...

इनकम टैक्स विभाग का बड़ा एक्शन

नई दिल्‍ली: आयकर विभाग ने बेनामी प्रॉपर्टी एक्‍ट के तहत कार्रवाई करते हुए 3500 करोड़ रुपए से ज्‍यादा की संपत्ति जब्त की है यह कार्रवाई 900 से ज्‍यादा केस में की गई विभाग की तरफ से प्रोविजनल तौर पर जब्त की गई प्रॉपटी में प्‍लॉट, फ्लैट, दुकानें, ज्‍वैलरी, वाहन, बैंक डिपॉजिट एफडी शामिल हैं अटैच की गई प्रॉपर्टीज में 2900 करोड़ रुपए से ज्‍यादा की अचल संपत्ति हैगुरुवार को इनकम टैक्स विभाग ने बयान जारी कर बोला कि विभाग ब्लैक मनी के विरूद्ध अपनी कार्रवाई जारी रखेगा  बेनामी ट्रांजैक्‍शन के तहत ऐसे एक्‍शन  होते रहेंगे

क्या है बेनामी संपत्ति?
बेनामी प्रॉपर्टी से मतलब ऐसी संपत्ति से है जिसका कोई कानूनी मालिक न हो या वह किसी ऐसे आदमी के नाम पर जिसका कोई आधार ही नहीं विभाग ने मई 2017 में अपने इन्‍वेस्टिगेशन डायरेक्‍टरेट्स के तहत 24 डेडिकेटेड बेनामी प्रॉ‍हिबिशन यूनिट्स (बीपीयू) बनाए थे, जिससे कि बेनामी प्रॉपर्टीज के विषय में तेजी से कार्रवाई की जा सके

यह भी पढ़ें:   रसोई गैस उपभोक्ताओं के लिए बुरी खबर
Loading...
loading...

पांच केस में प्रॉपर्टी 150 करोड़ से ज्‍यादा
इनकम टैक्स विभाग के मुताबिक, जब्त बेनामी संपत्ति में से पांच मामलों की एसेट वैल्‍यू 150 करोड़ रुपए से ज्‍यादा है वहीं, एक मामले में एक रियल एस्‍टेट कंपनी की करीब 50 एकड़ जमीन, जिसकी वैल्‍यू 110 करोड़ से ज्‍यादा है यह संपत्ति ऐसे लोगों के नाम पर थी जिसका जमीन से कोई मतलब नहीं था इसकी पुष्टि जमीन बेचने वाले  इसमें शामिल ब्रोकर की ओर से की गई विभाग ने रियल एस्‍टेट कंपनी का नाम सार्वजनिक नहीं किया है

कंपनी ने स्क्रैप करेंसी 
इनकम टैक्स विभाग के अनुसार, अटैच की गई अन्‍य संपत्तियों में दो केस नोटबंदी के बाद के हैंइसमें यह पाया गया कि दो अटैच एसेट्स ऐसे थे, जिसमें कंपनियों ने स्‍क्रैप करेंसी (पुराने 500 1000 रुपए के नोट) अलग-अलग बैंक खातों में अपने इम्‍प्‍लॉइज  सहयोगियों के नाम से जमा कराई थी उसे बाद में अपने-अपने बैंक अकाउंट्स में ट्रांसफर किया गया इस तरह अकाउंट में 39 करोड़ रुपए भेजने की प्रयास की गई एक अन्‍य केस में 1.11 करोड़ रुपए कैश एक व्‍यक्ति की गाड़ी से जब्‍त किए गए हालांकि, किसी व्‍यक्ति ने इस कैश पर क्लेम नहीं किया न्‍यायिक अथॉरिटी ने कैश को बेनामी प्रॉपर्टी घोषित कर दिया

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
यह भी पढ़ें:   गब्बर सिंह टैक्स के बाद राहुल गांधी ने गढ़ा GDP के लिए नया फुलफॉर्म
Loading...
loading...