भारतीय टीम को वर्ल्डकप दिलाने वाला ये कप्तान आज है बेरोजगार

नई दिल्ली : एक ही खेल में शोहरत के दो पहलू भी हो सकते हैं जी हां हम बात कर रहे हैं क्रिकेट की कोई यकीन नहीं करेगा कि क्रिकेट से जुड़ा कोई शख्स इतना मजबूर हो सकता है कि उसे अपना ज़िंदगी यापन करने के लिए जॉब खोजनी पड़ रही है लेकिन अभी उसके पास जॉब नहीं है यह शख्स क्रिकेट वर्ल्डकप जीत चुकी भारतीय टीम का सदस्य रह चुका है हम बात कर रहे हैं हिंदुस्तान को दो बार नेत्रहीनों का विश्वकप जिताने वाले शेखर नायक की शेखर इस समय बेरोजगार हैं

शेखर ने भारतीय टीम को मजबूत बनाया टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक हिंदुस्तान को इस श्रेणी में दो बार वर्ल्ड चैंपियन बनाने वाले शेखर नायक इस समय बेरोजगार हैं राष्ट्र के लिए 13 वर्ष तक खेलने वाले शेखर के पास इस समय एक जॉब भी नहीं है

यह भी पढ़ें:   चहल ने कहा लड़कियों से शर्माता हूं, कुलदीप बोले- हैंडल कर लेता हूं
Loading...
loading...

कर्नाटक के शिमोगा में हुआ जन्म
कर्नाटक के शिमोगा जिले में शेखर का जन्म हुआ जन्म के समय से ही उनकी आंखों में रोशनी नहीं थी शेखर ने यहां के शारदा देवी स्कूल फॉर ब्लाइंड में पहली बार क्रिकेट सीखा फिर वह राष्ट्रीय टीम के लिए चुने गए 2002 से लेकर 2015 तक वह भारतीय टीम का भाग रहे 5 वर्ष तक उन्होंने टीम के लिए कप्तान भी की वह 2010 से लेकर 2015 तक टीम के कप्तान रहे

पहली बार टीम को बनाया विश्व चैंपियन
उनकी अगुआई में हिंदुस्तान ने पहली बार बेंगलुरु में टी-20 विश्व कप  2015 में केपटाउन में क्रिकेट विश्व कप जीता था 30 की आयु पार करते ही वह टीम से बाहर हो गए शेखर का कहना है कि, ”जब लोग मेरी तारीफ करते हैं तो मैं खुश हो जाता हूं लेकिन पत्नी  दो बेटियों के लिए चिंतित भी हो जाता हूं मैंने सांसदों  विधायकों से जॉब देने की विनती की है उन्होंने मुझे आश्वासन भी दिया है, लेकिन फिर भी मैं बेरोजगार हूं

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
यह भी पढ़ें:   धोनी हैं ना! ऑस्ट्रेलिया पर खुद जमकर बरसे पंड्या
Loading...
loading...