Breaking News

रक्षा मंत्री ने लिया नौसेना की ताकत का जायजा

नई दिल्ली :  रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने मंगलवार को हिंदुस्तान के पश्चिमी तटीय एरिया में नौसेना की क्षमताओं का प्रदर्शन देखने के बाद बोला कि राष्ट्र की जलसेना किसी भी तरह के खतरे से देश को बचाने में पूरी तरह सक्षम है इस शो में विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्य, तीन पनडुब्बियों समेत 10 से अधिक युद्धपोतों  नौसेना के कई विमानों ने भाग लिया  दो दिनों तक इंडियन नौसेना की समुद्री शक्ति की समीक्षा करते हुए श्रीमती सीतारमण ने एयर इंटरस्टेशनों, मिसाइल, तोप तथा रॉकेट फाइरिंग, जहाज से जहाज भरपाई, रात्रि उड़ान तथा सबमेरिनरोधी कार्रवाइयों सहित अनेक जटिल नौसैन्य कार्रवाई की अध्यक्षता की  भारतीय नौसेना के पश्चिमी बेड़े ने हिंदुस्तान के पश्चिमी तट से नौसेनिक कालाबाजियों को अंजाम दिया  इसका उद्देश्य कार्रवाई दक्षता  युद्ध क्षमता को दिखाना है

रक्षा मंत्री ने कई नौसैनिक अभियानों का संचालन देखा
नौसेना ने बताया कि सीतारमण ने सोमवार को प्रारम्भ हुई दो दिन की प्रदर्शनी में कई जटिल नौसैनिक अभियानों का संचालन देखा जिनमें हवा में लक्ष्य पर निशाना साधना, मिसाइल, तोप  रॉकेट से प्रक्षेपण करना, रात में उड़ान भरना  पनडुब्बी रोधी अभियान शामिल हैं नौसेना के पश्चिमी बेड़े ने हिंदुस्तान के पश्चिमी तट पर परिचालन उत्कृष्टताओं  लड़ाकू क्षमताओं की बानगी पेश की

यह भी पढ़ें:   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहुंचे कर्नाटक, ऐसे हुआ स्वागत...
Loading...
loading...

सबसे पहले रक्षा मंत्री आईएनएस कोलकाता में सवार हुईं जो कोलकाता श्रेणी का पहला स्वदेश निर्मित विनाशकारी पोत है इसके बाद उन्होंने विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्य पर समुद्र में रात गुजारी नौसेना ने एक बयान में बोलाकि असली परिस्थितियों में विमानवाहक पोत के प्रदर्शन का आकलन करने के लिए निर्मला सीतारमण आठ जनवरी की रात को जहाज पर एक कृत्रिम खतरों वाले माहौल से गुजरीं जहां उनके ‘एस्कॉर्ट’ साथ थे

नौसेना ने उनके हवाले से कहा, ‘‘पश्चिमी बेड़े के कौशल का सीधा मुआयना करने के बाद मुझे विश्वास है कि इंडियननौसेना किसी भी तरह के खतरे से राष्ट्र को बचाने में पूरी तरह सक्षम है ’’ रक्षा मंत्री ने बोला कि हिंदी महासागर एरिया में नौसेना की ‘मिशन आधारित’ तैनातियों से समुद्री एरिया को सुरक्षित रखने में प्रभावी सहयोग मिला है

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
यह भी पढ़ें:   पीएम नरेंद्र मोदी के नाम सोनिया गांधी की चिट्ठी...
Loading...
loading...