राज्य की चर्चित सीटों में शुमार भावनगर पश्चिम सीट से भाजपा

अहमदाबाद: गुजरात विधानसभा चुनाव के नतीजे आने लगे हैं राज्य की चर्चित सीटों में शुमार भावनगर पश्चिम सीट से भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष जीतू वघानी ने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी कांग्रेस पार्टी के दिलीप सिंह गोहिल को 27185 मतों से शिकस्त दी भाजपा ने भावनगर पश्चिम से वर्तमान विधायक और प्रदेश अध्यक्ष जीतू वघानी पर भरोसा जताकर उन्हें फिर से मैदान में उतारा था भावनगर वेस्ट वघानी का गृह एरिया है उन्होंने पिछले चुनाव में सरलता से जीत दर्ज की थी

कांग्रेस ने दिलीप सिंह गोहिल को वघानी के मुकाबले चुनावी मैदान में उतारा था गोहिल के मैदान में उतरने से वघानी के लिए भावनगर वेस्ट सीट प्रतिष्ठा का सवाल बन गई थी हार्दिक पटेल का कांग्रेस पार्टी को समर्थन देने से बीजेपी की मुश्किलें बढ़ गई थीं वघानी को बहुत ज्यादा मेहनत करनी पड़ रही थी कांग्रेस पार्टी यहां हार्दिक पटेल के सहारे बीजेपी को निर्बल करने में जुटी हुई थी

जीतू पाटीदार समुदाय से आते हैं जो भाजपा की मुश्किलें बढ़ाए हुए थी CM की रेस में नितिन पटेल के पिछड़ने के बाद पाटीदार समुदाय की नाराजगी दूर करने के लिए बीजेपी ने उन्हें पिछले वर्ष अगस्त में प्रदेश अध्यक्ष की कमान सौंपी थी 45 वर्ष के वघानी लेवा पाटीदार समुदाय से आते हैं जिसका राज्य में बहुत ज्यादा असर है

यह भी पढ़ें:   जाने क्यो हुई भीम आर्मी की भारत एकता मिशन की राष्ट्रीय कार्यकारिणी भंग
Loading...
loading...

बैंकर परिवार से आने वाले वघानी ने अपनी पॉलिटिक्स की आरंभ बीजेपी की विद्यार्थी इकाई एबीवीपी से की थी वे भावनगर के एमजे कॉलेज से अपनी पढ़ाई के दौरान एबीवीपी से जुड़े इसके बाद वह आरएसएस से भी बहुत ज्यादा समय तक जुड़े रहे जहां से बीजेपी में पहुंचे  1990 में उन्हें भावनगर जिला समिति का महासचिव बनाया गया पेशे से इंश्योरेंस एजेंट  बिल्डर वघानी को पहली बार 2007 में पार्टी ने कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता शक्तिसिंह गोहिल के सामने भावनगर वेस्ट से मैदान में उतारा था हालांकि वह 3,134 वोट से चुनाव पराजय गए थे लेकिन चुनाव  पार्टी में अपनी छाप छोड़ने में पास रहे इसके बाद पार्टी ने उन्हें भाजयुमो का प्रदेश अध्यक्ष बनाया  यहां से वह बीजेपी के प्रदेश महासचिव भी रहे

साल 2012 के चुनावों में एक बार फिर वह मैदान में उतरे  जीत दर्ज करने में पास रहे प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से पहले वह राजकोट जिला ईकाई के अध्यक्ष थे वघानी को CM रुपानी का नजदीकी माना जाता है 2001 के बाद से यह पहली बार हुआ है कि राज्य के दोनों बड़े पद CM  प्रदेश अध्यक्ष दोनों सौराष्ट्र से हों

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
यह भी पढ़ें:   रविशंकर प्रसाद ने दिया गाये खाने पर कुछ ऐसा बयान …
Loading...
loading...