दिल्ली टेस्ट के ड्रॉ होने में है विराट कोहली के लिए खतरे की घंटी

कहावत बड़ी पुरानी है लेकिन टेस्ट क्रिकेट जब तक रहेगा तब तक इसका जिक्र जरूर होगा कहते हैं कि टेस्ट क्रिकेट में बल्लेबाज मैच बचाते हैं जबकि गेंदबाज मैच जिताते हैं गेंदबाज मैच जिताते इस लिहाज से हैं क्योंकि विरोधी टीम के बल्लेबाजों को दो बार आउट करने की जिम्मेदारी गेंदबाजों की ही होती है टेस्ट क्रिकेट का इतिहास बताता है कि जिस टीम ने भी टेस्ट क्रिकेट पर लंबे समय तक राज किया उसके गेंदबाज बड़े धाकड़ रहे मौजूदा समय में इंडियन टीम लगातार टेस्ट क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन कर रही थी दिल्ली टेस्ट मैच भले ही ड्रॉ रहा हो लेकिन भारतीय टीम ने टेस्ट सीरीज पर 1-0 से कब्जा कर लिया है विराट कोहली की कप्तानी में ये इंडियन टीम की 9वीं टेस्ट सीरीज जीत है जो विराट कोहली हिंदुस्तान के सबसे सफलतम कप्तानों की फेहरिस्त में सबसे आगे लाकर खड़ी कर देती है अब उस कहावत पर लौटते हैं जहां से आज के प्रसंग की शुरूआत हुई है ये बात शत-प्रतिशत हकीकत है कि सीरीज जीत के बाद भी विराट कोहली अगले कुछ दिन अपनी गेंदबाजी को लेकर परेशान रहेंगे दक्षिण अफ्रीका के विरूद्ध प्रारम्भ होने जा रही वर्ष की सबसे कठिन सीरीज में उन्हें अपने गेंदबाजों को लेकर थोड़ा सतर्क रहने की आवश्यकता पड़ेगी

Image result for दिल्ली टेस्ट

गेंदबाजों ने कोटला में आखिरी दिन निराश किया

चौथे दिन का खेल जब समाप्त हुआ तब श्रीलंका का स्कोर था-31 रन पर 3 विकेट मैच के आखिरी दिन इंडियन टीम को जीत के लिए 7 विकेट की आवश्यकता थी मैच के आखिरी दिन पिच से संभवत: मिलने वाली मदद  श्रीलंका की टीम पर पराजय का मंडराता खतरा वो दो बिंदु थे जिनका लाभ इंडियन गेंदबाजों को उठाना था आपको याद दिलाते चलें कि इस टेस्ट मैच में इंडियन टीम 2 तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी  ईशांत शर्मा के अतिरिक्त दो स्पिनर आर अश्विन  रवींद्र जडेजा के साथ मैदान में उतरी थी मोटे तौर पर ये चार गेंदबाज इंडियन टेस्ट टीम का भाग रहते ही हैंजसप्रीत बुमराह  हार्दिक पांड्या दो  नाम हैं जिन्हें लेकर विराट कोहली आश्वस्त हैं विराट की चिंता कोटला टेस्ट से इसलिए बढ़ गई होंगी कि मैच के पांचवे दिन इंडियन गेंदबाज पूरे दिन में सिर्फ 2 विकेट ले सके पिछली पारी के शतकवीरों एंजेलो मैथ्यूज  दिनेश चांदीमल को आउट करने में इंडियन गेंदबाज सफल रहे लेकिन डीसिल्वा, विकेटकीपर डिकवेला  रोशन सिल्वा ने इंडियनगेंदबाजों को पूरी तरह हताश किया विराट कोहली ने खुद भी गेंदबाजी की मुरली विजय ने भी मोर्चा संभाला लेकिन श्रीलंका के बल्लेबाजों का प्रयत्न तारीफ के काबिल रहा

यह भी पढ़ें:   टेस्ट के बाद वनडे में भी श्रीलंका का सूपड़ा साफ...
loading...
Loading...

पूरी सीरीज में कोटला में ही हुई संघर्षपूर्ण बल्लेबाजी

इसे संयोग ही कहिए कोटला में श्रीलंका के बल्लेबाजों के प्रयत्न का स्तर ही अलग दिखाई दियाकोटला टेस्ट मैच की पहली पारी में श्रीलंकाई बल्लेबाजों ने 135.3 ओवर तक बल्लेबाजी की दूसरी पारी में भी श्रीलंका की टीम ने 103 ओवर बल्लेबाजी की 103 ओवर में सिर्फ पांच कामयाबी इंडियन गेंदबाजों को मिली दूसरी पारी में श्रीलंका के शतकवीर बल्लेबाज डीसिल्वा रिटायर्ड हर्ट हो गए थे इससे पहले के मैचों के आंकड़े देखिए तो पता चलता है कि किस तरह इंडियन गेंदबाज असरदार साबित हुए थे सीरीज के पहले टेस्ट में कोलकाता में इंडियन गेंदबाजों ने श्रीलंका की टीम को पहली पारी में 83.4 ओवर में समेट दिया था दूसरी पारी में सिर्फ 26.3 ओवर में श्रीलंका की टीम के सात बल्लेबाज पवेलियन लौट चुके थे सिर्फ 4-5 ओवर  होते तो कोलकाता टेस्ट का निर्णयइंडियन टीम के पक्ष में होता दूसरा टेस्ट मैच नागपुर में था नागपुर टेस्ट की पहली पारी में श्रीलंका ने 79.1 ओवर बल्लेबाजी की दूसरी पारी में श्रीलंका की टीम की हालत  बेकार हो गई श्रीलंका की पूरी टीम 49.3 ओवर में सिमट गई हिंदुस्तान ने नागपुर टेस्ट पारी  239 रनों के बडे अंतर से जीता इंडियन टीम मैनेजमेंट को इस बात का अहसास होना चाहिए कि अभी ‘पैनिक बटन’ दबाने की आवश्यकता भले ना हो लेकिन दक्षिण अफ्रीका में इंडियन गेंदबाजों को  आक्रामकता दिखानी होगी

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
यह भी पढ़ें:   ICC मीटिंग में पाक की अनदेखी को तैयार BCCI
Loading...
loading...