डिमेंशिया के खतरे को कम करने वाले मस्तिष्क के पहले व्यायाम की हुई पहचान

न्यूयॉर्क: डिमेंशिया के खतरे को उल्लेखनीय रूप से कम करने वाले मस्तिष्क के पहले व्यायाम की पहचान शोधकर्ताओं ने कर ली है अमेरिका की इंडियाना यूनिवर्सिटी के फ्रेडरिक डब्ल्यू उनवेरजाग्ट ने बताया कि ‘स्पीड ऑफ प्रोसेसिंग’ कहे जाने वाले इस संज्ञानात्मक एक्सरसाइज में भाग लेने वाले प्रतिभागियों को 10 वर्ष तक इसका फायदा मिला उन्होंने बताया कि इस एक्सरसाइज से गुजरे बाद में डिमेंशिया से प्रभावित हुए लोगों की संख्या इस एक्सरसाइज से नहीं गुजरे लोगों की संख्या के मुकाबले बहुत कम थी

अल्जाइमर्स एंड डिमेंशिया: ट्रांसलेशनल रिसर्च एंड क्लिनिकल इंटरवेंशन्स नाम वाली पत्रिका में छपे इस अध्ययन में बताया गया है कि इस प्रशिक्षण में 65 वर्ष की आयु वाले 2,802 स्वस्थ बुजुर्गों ने भाग लिया, जिन्हें चार समूहों में विभाजित किया गया था इनमें से 1,220 प्रतिभागियों ने 10 वर्ष के आकलन को पूरा किया

यह भी पढ़ें:   अपने होंठों को खूबसूरत बनाने के लिए करे स्क्रब
loading...
Loading...

विटामिन डी की कमी से डिमेंशिया का खतरा दोगुना
बुजुर्ग लोगों में विटामिन डी के निचले स्तर से डिमेंशिया  अल्जाइमर के विकसित होने का खतरा दोगुना हो सकता है यह बात एक अध्ययन में पाई गई है अध्ययन में शामिल जिन लोगों में विटामिन डी की कमी थी, उनमें डिमेंशिया  अल्जाइमर की बीमारी पनपने की आसार दोगुने से भी ज्यादा थी शोधकर्ताओं ने उन बुजुर्ग अमेरिकी नागरिकों का अध्ययन किया था

रिसर्च में पाया गया जिन व्यस्कों में विटामिन डी की कमी थोड़ी सी ही थी, उनमें किसी भी तरह का डिमेंशिया पैदा होने का खतरा 53 फीसदी था वहीं जिनमें विटामिन डी कमी का स्तर गंभीर था, उनमें यह खतरा 125 फीसदी था ऐसे ही नतीजे अल्जाइमर बीमारी के बारे में भी पाए गए कम कमी वाले समूह में इस बीमारी का खतरा 69 फीसदी था जबकि गंभीर रूप से विटामिन डी की कमी वाले लोगों में इसका फीसदी 122 फीसदी था इस अध्ययन में 65 साल  उससे ज्यादा आयु के उन 1,658 व्यस्कों का अध्ययन किया गया था

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
यह भी पढ़ें:   एक बार के इस्तेमाल में ही आँखों के काले घेरे गायब... वीडियो
Loading...
loading...