बेनामी संपत्ति का मामला : इनकम टैक्स वाले जबरदस्ती संपत्ति जब्त कर रहे हैं

पटना: राष्ट्रीय जनता दल अध्यक्ष लालू यादव का कहना है कि आयकर विभाग और प्रवर्तन निदेशालय जबरदस्ती उनके परिवार के लोगों के नाम से संपत्ति जब्त कर रही हैं. पिछले दिनों, आयकर विभाग ने दिल्ली के फ्रेंड्स कॉलोनी में उनके बेटे, तेजस्वी यादव के नाम से एक कोठी को जब्त किया है.लालू ने पहली बार इस पर  प्रतिक्रिया देते हुए एनडीटीवी से कहा कि किस आधार पर ये लोग इन संपत्तियों को बेनामी कह रहे हैं जबकि सब कुछ पब्लिक डोमेन में है और आयकर विभाग को इसकी जानकारी थी.  लेकिन लालू यादव ने आयकर विभाग और प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारियों पर कोई आरोप नहीं लगाते हुए बस इतना कहा कि ये एजेंसी और इनके अधिकारी मोहरा हैं और सब कुछ प्रधानमंत्री, नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के इशारे पर हो रहा हैं.

बेनामी संपत्ति का मामला : लालू ने कहा, इनकम टैक्स वाले जबरदस्ती संपत्ति जब्त कर रहे हैं

यह भी पढ़ें:   आरएसएस ने बजाई खतरे की घंटी, घट रही है मोदी सरकार की लोकप्रियता

इससे पूर्व लालू यादव की बेटी मीसा भारती और उनके पति शैलेश कुमार के नाम से एक फॉर्म हाउस को भी जब्त किया गया है. वहीं जांच एजेंसियो का कहना है कि अभी तक पूछताछ में लालू यादव के परिवार का कोई सदस्य अपने जवाब से ये संतुष्ट नहीं कर पाया कि आखिर करोड़ों की संम्पति कुछ लाख रुपये में शेयर खरीद कर उनके हाथ कैसे मिल जाती थी.

loading...

अभी तक वो चाहे तेजस्वी यादव हो या उनकी मां रबड़ी देवी या मीसा भारती और उनके पति शैलेश कुमार सब आयकर विभाग और प्रवर्तन निदेशालय के सामने पूछताछ के लिए गए हैं. लेकिन लालू यादव ने रेलवे के दो होटल के बदले पटना में तीन एकड़ जमीन के मामले में 2 अक्टूबर तक का समय मांगा है. लालू यादव का तर्क है कि फ़िलहाल चारा घोटाले के मामलों में जारी ट्रायल के कारण उनके पास समय का अभाव है. हालांकि लालू और तेजस्वी दोनों ने सार्वजनिक रूप से कई बार कहा है कि उनके पास अर्जित संपत्ति से सम्बंधित जितने मामले शुरू हुए हैं उसका वो चाहे कागजात हो या पूरी सार्वजनिक करने की रणनीति सब नीतीश कुमार ने बीजेपी के नेटवर्क के साथ मिलकर अंजाम दिया है.

यह भी पढ़ें:   सीबीआई छापेमारी के बाद बिहार के मुख्यमंत्री ने बुलाई आपात बैठक
loading...