आज रखी जाएगी बुलेट ट्रेन की आधारशीला…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को जापान के पीएम शिंजो आबे के साथ अहमदाबाद में देश के पहली बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की नींव रखेंगे. यह प्रोजेक्ट करीब 1 लाख करोड़ रुपए का है, बुलेट ट्रेन का यह प्रोजेक्ट अहमदाबाद से मुंबई तक का है. वहीं गुजरात में बीजेपी को घेरने के लिए इस बार कांग्रेस नई रणनीति के साथ उतरने की तैयारी कर रही है. लगातार 2003, 2008 और 2013 में मोदी मुख्यमंत्री के तौर पर कांग्रेस को पटखनी दे चुके हैं. 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी को प्रधानमंत्री के उम्मीदवार बने तो गुजरात ने 26 की 26 सीटें बीजेपी की झोली में डाल दी. पढ़ें गुरुवार सुबह की पांच बड़ी खबरें..

NEWS WRAP

1. मोदी-शिंजो आबे की हाईस्पीड दोस्ती, आज रखेंगे देश के पहले बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की नींव

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को जापान के पीएम शिंजो आबे के साथ अहमदाबाद में देश के पहली बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की नींव रखेंगे. यह प्रोजेक्ट करीब 1 लाख करोड़ रुपए का है, बुलेट ट्रेन का यह प्रोजेक्ट अहमदाबाद से मुंबई तक का है. दोनों नेता सुबह करीब 10 बजे साबरमती रेलवे स्टेशन के पास इस कार्यक्रम की शुरुआत करेंगे. सरकार की ओर से कहा गया है कि इस प्रोजेक्ट को निर्धारित समय से एक साल पहले यानी 2022 में पूरा करे जाने की बात की है.

2. Exclusive: गुजरात में बीजेपी को हराने के लिए कांग्रेस का ‘शांति प्लान’

गुजरात में बीजेपी को घेरने के लिए इस बार कांग्रेस नई रणनीति के साथ उतरने की तैयारी कर रही है. लगातार 2003, 2008 और 2013 में मोदी मुख्यमंत्री के तौर पर कांग्रेस को पटखनी दे चुके हैं. 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी को प्रधानमंत्री के उम्मीदवार बने तो गुजरात ने 26 की 26 सीटें बीजेपी की झोली में डाल दी. अब कांग्रेस को लगता है कि पटेल समाज की नाराजगी, बीजेपी सरकार के करीब 18 सालों की सत्ता विरोधी लहर के साथ हो मोदी का मुख्यमंत्री नहीं होना उसके हक में जा सकता है. हालांकि एक डर है जो कांग्रेस को सता रहा है. वो है, साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण का. दरअसल, कांग्रेस मानती है कि गुजरात के विधानसभा चुनाव रहे हों या 2014 का लोकसभा चुनाव रहा हो या फिर हाल में यूपी का विधानसभा चुनाव, इन सब में बीजेपी की सफलता की बड़ी वजह हिन्दू- मुस्लिम मतों का बंटवारा भी बनी.

यह भी पढ़ें:   मोदी के 'स्वच्छता ही सेवा' अभियान को रजनीकांत का समर्थन

3. हिंदी दिवस: ये देश भी हिंदी का मुरीद, हिंदी भाषण से मिलती है चुनावों में जीत

loading...

भाषण ऐसा होना चाहिए कि उसके दम पर आप चुनाव जीत लें. पर एक दमदार भाषण में जान फूंकने का काम करती है एक ऐसी भाषा, जो सारी आवाम को समझ आ जाए. भारत में जहां हिंदी में दिए गए भाषण देकर चुनाव जीत लिया जाता है, वहीं दुनिया में एक ऐसा देश भी है जिसने हमारी मातृभाषा हिंदी को ना सिर्फ अपनी आधिकारिक भाषा बनाया बल्कि वहां के नेता हिंदी भाषण देकर चुनाव जीते लेते हैं. हम बात कर रहे हैं ‘फिजी’ की जो दक्षिण प्रशांत महासागर स्थित 322 द्वीपों का समूह है. जहां भारतीयों की 44 प्रतिशत आबादी है.

यह भी पढ़ें:   ये भिखारी बाबा 13 वर्ष में 1845 गरीब युवतियों का करा चुके हैं ब्याह

4. आवारा कुत्ते पकड़ने वाली गाड़ी में इंसानों को घुमाया, खुले में शौच करने की सजा

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में नगर निगम ने खुले में शौच करने वालों के खिलाफ अभियान छेड़ रखा है. इस क्षेत्र को ‘खुले में शौच से मुक्त’ (ODF)  बनाने पर निगम का जोर है. इसी के तहत लोगों में जागरुकता लाने के लिए निगम की ओर से तरह-तरह के हथकंडों का इस्तेमाल किया जा रहा है. लेकिन निगम के अमले ने खुले में शौच करने वालों के साथ जो किया वो सवालों के घेरे में है. ऐसे करीब दर्जन भर लोगों को सजा देने के तौर पर जंगले वाली गाड़ी में कैद कर शहर भर में घुमाया गया. इस गाड़ी का इस्तेमाल आवारा कुत्तों या अन्य जानवरों को पकड़ कर शहर से बाहर छोड़ने के लिए किया जाता है.

5. इस बार डीयू बोला ‘वी वांट रॉकी’, ABVP करेगी हार की समीक्षा

दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव में एनएसयूआई ने अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद जीतकर ABVP को चौंका दिया. अध्यक्ष पद पर एनएसयूआई के रॉकी रॉकी तुसीद ने एबीवीपी के रजत चौधरी को 1590 मतों से हरा दिया. वहीं दूसरी तरफ उपाध्यक्ष पद पर NSUI के कुणाल सहरावत ने जीत दर्ज की.

loading...