हिन्दी साहित्य पर आधारित हैं ये…

कई फिल्म निर्देशकों ने हिन्दी के लोकप्रिय उपन्यासों और कहान‍ियों को परदे पर उतारने की कोशिश की है. ये फिल्में विषय, फिल्मांकन और चर‍ित्र चरिण के मामले में बेमिसाल हैं. जानते हैं कुछ ऐसी ही फिल्मों के बारे में…

हिन्दी उपन्यास पर आधारित फिल्में

तमस

 

भीष्म साहनी के बंटवारे पर लिखे गए कालजयी उपन्यास तमस पर इसी नाम से गोविंद निहलानी ने चार घंटे से ज्यादा की फिल्म बनाई थी. इस पर टीवी सीरियल भी बनाया गया. ये फिल्म भी उपन्यास की तरह ही दर्शकों को अंदर तक झकझोरने में सफल रही. इसमें एके हंगल और ओम पुरी लीड रोल में हैं.

पति पत्नी और वो

 

ये फिल्म कमलेश्वर के इसी नाम के उपन्यास पर आधारित है. इस फिल्म को कमलेश्वर ने ही लिखा था. इसमें मुख्य भूमिका संजीव कुमार, विद्या सिन्हा और रंजीता कौर ने निभाई है. ये फिल्म बीआर चोपड़ा ने निर्देशित की है.

गोदान

 

मुंशी प्रेमचंद के बेहद लोकप्रिय उपन्यास गोदान पर सबसे पहले 1963 में फिल्म बनी थी. इसमें राजकुमार और मेहमूद मुख्य भूमिका में थे. इस कहानी को 2004 में 26 एपिसोड की टीवी सीरीज तहरीर मुंशी प्रेमचंद में भी शामिल किया गया था.

यह भी पढ़ें:   चैंपिंयस ट्राफी में पाकिस्तान की जीत के बाद कश्मीर में भड़की हिंसा, सुरक्षा बलों पर पथराव के साथ ही पटाखे फेंके

सूरज का सातवां घोडा

 

धर्मवीर भारती के इस उपन्यासों को परदे पर जीवंत बनाया था श्याम बेनेगल ने. उन्होंने इसी नाम से 1992 में फिल्म बनाई थी. इसमें रजित कपूर, नीना गुप्ता और अमरीश पुरी मुख्य भूमिका में हैं. फिल्म भी उपन्यास की तरह ही लोकप्रिय रही.

शतरंज के खिलाड़ी

 

मुंशी प्रेमचंद की कहानी शतरंज के खिलाड़ी पर द चेस प्लेयर्स नाम से सत्यजीत रे ने फिल्म बनाई थी. इसकी कहानी 1957 के ब्रिटिश भारत की पृष्ठभूमि पर है. फिल्म में मुख्य भूमिका में संजीव कुमार और शबाना आजमी हैं.

loading...

सद्गति

 

मुंशी प्रेमचंद की कहानी पर इसी नाम से सत्यजीत रे ने 1981 में फिल्म बनाई थी. इसमें ओम पुरी और स्मिता पाटिल ने मुख्य भूमिका निभाई है. यह फिल्म भारतीय जाति व्यवस्था पर गहरा प्रहार करती है. फिल्म में छूताछूत की बुराई का चित्रण उम्दा तरीके से किया गया है.

गबन

 

मुंशी प्रेमचंद के कालजयी उपन्यास गबन पर 1966 में ऋषिकेश मुखर्जी ने इसी नाम से फिल्म बनाई थी. इसमें सुनील दत्त और साधना लीड रोल में हैं. इस फिल्म के गीत लता मंगेशकर और मोहम्मद रफी ने गाए थे. दर्शकों में फिल्मों को भी काफी सराहना मिली.

यह भी पढ़ें:   सुबह योग से रात के सोने तक, जाने क्या करते है मोदी

उसने कहा था

 

चंद्रधर शर्मा गुलेरी की बेहद चर्चित कहानी उसने कहा था पर इसी नाम से मोनी भट्टाचार्य ने 1960 में फिल्म बनाई थी. इसमें सुनील दत्त और नंदा मुख्य भूमिका में है. हालांकि, फिल्म को उतनी सराहना नहीं मिली, जितनी की गुलेरी की इस कहानी को मिली.

तीसरी कसम

 

राज कपूर और वहीदा रहमान की ये फिल्म फणीश्वरनाथ रेणु की कहानी ‘मारे गए गुलफाम’ पर आधारित है. इसे शैलेंद्र ने प्रोड्यूस किया था और बासु भट्टाचार्य ने निर्देशित. ये फिल्म सफल नहीं हो पाई थीं. इससे शैलेंद्र काफी हताश हो गए थे.

अनवर

 

मनीष झा की फिल्म अनवर कथाकार प्रियंवद की कहानी फाल्गुन की एक उपकथा पर आधारित है. यह कहानी एक प्राचीन हिन्दू मंदिर में छिपे  मुस्लिम युवक के इर्द-गिर्द घूमती है. इस फिल्म में मनीषा कोईराला भी नजर आई हैं.

loading...