Saturday , March 23 2019
Loading...
Breaking News

प्रसाद ने कहा, मसूद अजहर को लेकर कांग्रेस पार्टी का रुख दूसरा

चाइना ने संयुक्त देश सुरक्षा परिषद् में उस प्रस्ताव पर वीटो का प्रयोग करते हुए उसे टेक्निकल होल्ड पर डाल दिया जिसके जरिए जैश-ए-मोहम्मद के मुखिया मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित किया जाया था. इस मामले पर केंद्रीय कानून मंत्री रविशकंर प्रसाद ने प्रेस कांफ्रेस की. उन्होंने बोला कि चौथी बार अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित किए जाने की प्रयास की थी. यह फ्रांस, अमेरिका  ब्रिटेन का प्रस्ताव था. यह हिंदुस्तान की कूटनीतिक जीत है कि जिसके लिए पहले वह पहल करता था अब अन्य राष्ट्र उसका साथ दे रहे हैं.

उन्होंने कहा, ‘आतंकवादी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने के लिए इस बार प्रस्ताव अमेरिका, ब्रिटेन  फ्रांस लेकर आए, चाइना को छोड़कर बाकी सभी राष्ट्रों ने इस प्रस्ताव का समर्थन किया. चाइना के इस कदम से हिंदुस्तान  भारतवासी बहुत दुखी हैं. आज चाइना को छोड़कर पूरी संसार हिंदुस्तान के साथ खड़ी है. ये एक तरह से हिंदुस्तान की कूटनीतिक जीत है.

कानून मंत्री ने पूछा, ‘क्या मसूद अजहर जैसे नृशंस हत्यारे के मामले में कांग्रेस पार्टी का स्वर दूसरा होगा? राहुल गांधी के ट्वीट से ऐसा लगता है कि उन्हें इस बात से खुशी है. हिंदुस्तानको जब भी पीड़ा होती है तो राहुल खुश क्यों होते हैं? राहुल गांधी के ट्वीट जैश के दफ्तर में खुशी से पढ़े जाएंगे. आतंकवाद के विरूद्ध लड़ाई में कांग्रेस पार्टी गंभीर नहीं.

प्रसाद ने कहा, ‘मसूद अजहर को लेकर कांग्रेस पार्टी का रुख दूसरा है. राहुल के चाइना के साख अच्छे संबंध हैं. राहुल गांधी से मेरा सवाल है कि 2009 में यूपीए के समय में भी चाइना ने मसूद अजहर पर यही टेक्निकल असहमति लगाई थी, तब भी आपने ऐसा ट्विटर हैंडल से लिखा है था क्या? मसूद को जब चाइना बचाता है तो राहुल को खुशी होती है. राहुल गांधी जी आज आपकी विरासत के कारण ही चाइना सुरक्षा परिषद का सदस्य है ‘

loading...