Tuesday , March 26 2019
Loading...

हीना का बड़ा बयान, भारत से लड़कर कश्मीर नहीं जीत सकता पाकिस्तान, जाने क्यों…

लाहौरकहा है कि उनके मुल्क को आर्थिक, राजनीतिक या सैन्य रूप से अमेरिका पर आश्रित राष्ट्ररहने के बजाय हिंदुस्तान  अन्य पड़ोसी राष्ट्रों के साथ संबंध मजबूत करना चाहिए हिना ने यहां शनिवार को ‘थिंक फेस्ट’ में अमेरिका – पाक संबंधों पर बोला कि पाक ने हमेशा ही खुद के एक पूर्ण रणनीतिक साझेदार होने की कल्पना की है, जो दूर की बात है ‘डॉन’ में रविवार को आई एक समाचारके मुताबिक, पूर्व विदेश मंत्री ने बोला कि पाक अपने दोनों हाथों में भिक्षा पात्र रख कर सम्मान नहीं हासिल कर सकता

पाकिस्तान की प्रथम महिला विदेश मंत्री (2011-2013) रह चुकीं हिना ने बोला कि पाक का सबसे जरूरी संबंध अमेरिका के बजाय अफगानिस्तान, भारत, ईरान  चाइना के साथ होना चाहिएउन्होंने बोला कि अमेरिका उतनी अहमियत पाने का हकदार नहीं है जितनी पाक में उसे दी गई है क्योंकि हमारी अर्थव्यवस्था अमेरिका के योगदान पर निर्भर नहीं है, जैसा कि व्यापक रूप से माना जाता है

गौरतलब है कि उनके ही कार्यकाल के दौरान अलकायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन पाक के ऐबटाबाद में मई 2011 में एक अमेरिकी सैन्य अभियान में मारा गया था हिना ने बोला कि पाक को अमेरिका से ज्यादा उम्मीदें नहीं रखनी चाहिए उन्होंने यह भी बोला कि पाक को अवश्य ही अफगान युद्ध से बाहर निकल जाना चाहिए   17 बरसों से चले आ रहे इस युद्ध में पाकिस्तान को सर्वाधिक नुकसान उठाना पड़ा है

आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि हिना का इस तरह का बयान कोई पहली बार नहीं आया हैइससे पहले भी वह कई बार हिंदुस्तान  पाक के संबंधों पर बोल चुकी हैं उन्होंने इससे पहले कश्मीर पर पाक को आइना दिखाते हुए बोला था कि ‘पाकिस्तान हिंदुस्तान से लड़कर कश्मीर नहीं जीत सकता, इस मुद्दे का हल आपसी विश्‍वास का माहौल बनाकर ही किया जा सकता है

पाक न्यूज चैनल को दिए एक इंटरव्‍यू में खार ने बोला था, ‘मेरा मानना है कि पाकिस्‍तान युद्ध लड़कर कश्‍मीर को हासिल नहीं सकता है यदि हम ऐसा नहीं कर सकते तो सिर्फ वार्ता ही विकल्प बचता हैउन्होंने बोला कि आपसी वार्ता ही ऐसा एकमात्र रास्ता है जिससे आप अपने रिश्‍तों को बेहतर बना सकते हैं  आपसी विश्‍वास बरकरार रख सकते हैं कश्‍मीर जैसे गम्भीर मसले पर वार्ता लगातार जारी रखी गई तो निवारण तक पहुंच सकते हैं

loading...