Tuesday , February 19 2019
Loading...

भारत, मध्य एशिया व अफगानिस्तान ऐसे समाज हैं जो सहिष्णु एवं मिश्रित हैं: स्वराज

हिंदुस्तान ने रविवार को बोला कि वह अफगानिस्तान के आर्थिक पुन:निर्माण  युद्धग्रस्त एरिया में ‘‘अफगान नीत, अफगान स्वामित्व वाली एवं अफगान नियंत्रित” शांति एवं सामंजस्य की समावेशी प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है यहां ऐतिहासिक भारत-मध्य एशिया संवाद में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने हिंदुस्तान के पक्ष को रखा जो आतंकवाद से बर्बाद राष्ट्रों तक संपर्क बढ़ाने के साथ ही विभिन्न क्षेत्रीय मुद्दों पर ध्यान देता है ने संवाद के पहले सत्र में कहा, “मैं खासकर यह बताना चाहती हूं कि हमारा एरिया आतंकवाद के गंभीर खतरों का सामना कर रहा है

भारत, मध्य एशिया  अफगानिस्तान ऐसे समाज हैं जो सहिष्णु एवं मिश्रित हैं आतंकी जिस नफरत की विचारधारा को प्रसारित करना चाहते हैं, उसकी हमारे समाज में कोई स्थान नहीं है ” उन्होंने कहा, “हमें यह भी पूछने की आवश्यकता है कि ये आतंकी कौन हैं, उनकी आर्थिक मदद कौन कर रहा है, उनका भरण-पोषण कैसे होता है, कौन उनका संरक्षण करता है  प्रायोजित करता है ” हिंदुस्तान अफगानिस्तान को पुनर्निर्माण, अवसंरचना विकास, क्षमता निर्माण, मानव संसाधन विकास एवं संपर्क पर केंद्रित विकास कार्यों के लिए करीब तीन अरब डॉलर की आर्थिक मदद दे रहा है

उन्होंने बताया कि सितंबर 2017 में प्रारम्भ की गई ‘नयी विकास साझेदारी’ के तहत काबुल शहर में शहतूत बांध पेयजल परियोजना, नांगरहार प्रांत में कम लागत का आवासन, 116 उच्च स्तरीय सामुदायिक विकास परियोजनाएं एवं अवसंरचना के कई अन्य परियोजनाओं पर कार्य किया जा रहा है

loading...