Saturday , December 15 2018
Loading...

अमेरिका और चीन के लोगों की अपेक्षा जलवायु परिवर्तन को लेकर चिंतित

एक सर्वेक्षण में खुलासा हुआ है कि यूरोप के लोग अमेरिका और चीन के लोगों की अपेक्षा जलवायु परिवर्तन को लेकर ज्यादा चिंतित हैं। यूरोपीय निवेश बैंक (ईआईबी) द्वारा कराए गए जलवायु सर्वेक्षण से मंगलवार को पता चला है कि जलवायु परिवर्तन पर संदेह जताने वालों या इसे खारजि करने वालों की संख्या अमेरिका में पाए जाने की संभावना ज्यादा है।

यह सर्वेक्षण वैश्विक सार्वजनिक राय कंपनी यूगोव के साथ साझेदारी में यह जानने के लिए किया गया कि अमेरिका, चीन और यूरोपीय संघ के 25,000 नागरिक जलवायु परिवर्तन के बारे में कैसा महसूस करते हैं।

ईआईबी ने संयुक्त राष्ट्र जलवायु वार्ता के दौरान अपने सर्वेक्षण के पहले दो हिस्सों के निष्कर्ष प्रस्तुत किए, जिन्हें सीओपी24 के नाम से जाना जाता है, जिसने पोलैंड के इस शहर में जलवायु परिवर्तन को कम करने के लिए विश्व के नेताओं और नीति नियामकों को काम करते देखा।

सर्वेक्षण में कहा गया है कि बड़ी संख्या में यूरोपीय लोग जलवायु परिवर्तन के मुद्दे से अच्छी तरह अवगत हैं, लेकिन 20 प्रतिशत अभी भी जलवायु परिवर्तन पर अंतर सरकारी समिति (आईपीसीसी) की हालिया विशेष रिपोर्ट के बावजूद चिंतित नहीं है, जिसमें पाया गया है कि 2030 में ग्लोबल वार्मिग विनाशकारी प्रभाव के साथ 1.5 डिग्री तक पहुंच सकती है।

Loading...

सात प्रतिशत यूरोपीय लोगों के मुकाबले कुल 14 प्रतिशत अमेरिकियों ने जलवायु परिवर्तन की वास्तविकता पर संदेह किया है।

loading...

पोलैंड को छोड़कर, यूरोप में उच्च आय वालों की तुलना में जलवायु कार्यों के नकारात्मक आर्थिक प्रभाव से कम आय वाले लोग अधिक चिंतित हैं।

ईआईबी के उपाध्यक्ष जोनाथन टेलर (क्लाइमेट एक्शन व पर्यावरण संबंधी) ने कहा, “ईआईबी का जलवायु सर्वेक्षण कटोविस में सीओपी24 में उपस्थित प्रतिनिधियों को एक महत्वपूर्ण संकेत देता है कि नागरिक जलवायु परिवर्तन से उत्पन्न चुनौतियों के बारे में जागरूक हैं।”

उन्होंने कहा, “यह अंतर्राष्ट्रीय जलवायु बहस के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि नागरिक पहले से ही अपने व्यक्तिगत कार्यों के माध्यम से एक बदलाव ला रहे हैं। अब यह सभी स्तरों और सार्वजनिक संस्थानों के लिए इस गति का उपयोग करने और एक साथ काम करने के लिए व्यवसायों, नागरिकों, सरकारों पर निर्भर है। ईआईबी अपनी भूमिका निभाने के लिए तैयार है।”

यूरोपीय लोग जलवायु परिवर्तन के वित्तीय प्रभाव के बारे में अधिक चिंता व्यक्त करते हैं।

40 प्रतिशत चीनी और 45 प्रतिशत अमेरिकी उत्तरदाताओं की तुलना में 50 प्रतिशत यूरोपीय लोगों का मानना है कि जलवायु परिवर्तन का वित्तीय प्रभाव उन्हें व्यक्तिगत रूप से प्रभावित करेगा।

Loading...
loading...