Wednesday , December 19 2018
Loading...

अमेरिका दो दिन में ये निर्धारित करेगा कि सऊदी पत्रकार जमाल खशोगी को किसने मारा है: ट्रंप

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने वरिष्ठ पत्रकार जमाल खगोशी की हत्या को लेकर रविवार को बड़ा बयान दिया। ट्रंप ने कहा कि अमेरिका दो दिन में ये निर्धारित कर देगा कि सऊदी पत्रकार जमाल खशोगी को किसने मारा है।

कल मीडिया में दी गई खबरों को लेकर भी अमेरिकी विदेश विभाग ने सफाई दी। अमेरिकी विदेश विभाग ने कहा कि हम उन सभी रिपोर्टों को खारिज करते हैं जिनमें दावा किया गया था कि संयुक्त राज्य अमेरिका ने पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या करने वाले अपराधियों के बारे में पता लगा लिया है।

Loading...

शनिवार को अमेरिका ने कहा था कि अमेरिका की केंद्रीय खुफिया एजेंसी इस निष्कर्ष पर पहुंची है कि पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या के पीछे सऊदी अरब के वली अहद मोहम्मद बिन सलमान का हाथ है।अमेरिका का यह आकलन सऊदी अरब के अभियोजक के विपरीत है जिन्होंने एक दिन पहले इस नृशंस हत्या में वली अहद की संलिप्तता को खारिज किया था।

loading...

अखबार ने कहा कि सीआईए की जांच के अनुसार, सऊदी अरब के 15 एजेंट सरकारी विमान से इस्तांबुल पहुंचे थे और उन्होंने सऊदी अरब के दूतावास में खशोगी की हत्या की। इस बारे में पूछे जाने पर सीआईए ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

वाशिंगटन पोस्ट के स्तंभकार खशोगी अपनी तुर्क मंगेतर से शादी करने के वास्ते आवश्यक दस्तावेज हासिल करने के लिए दूतावास गए थे। सऊदी अरब के अभियोजक ने गुरुवार को अपनी नई कहानी सुनाते हुए कहा था कि खशोगी को समझा बुझाकर इस्तांबुल से वापस लाने के लिए 15 सदस्यीय दल गठित किया गया था लेकिन अंतत: पत्रकार की हत्या कर दी गई और उनके शव को टुकड़े-टुकड़े कर दिया गया।

अखबार ने बताया कि सीआईए ने कई खुफिया सूत्रों को खंगाला जिसमें वली अहद के भाई और खशोगी के बीच एक फोन कॉल भी शामिल है। वली अहद के भाई अमेरिका में सऊदी अरब के राजदूत हैं।

Loading...
loading...