Saturday , November 17 2018
Loading...

जीका वायरस से बचना हो तो करे ये उपाय…

केंद्रीय सेहत मंत्रालय ने शनिवार को यहां बोला कि राजस्थान में जीका वायरस जनित रोग का संबंध सिर का विकास सामान्य से कम होने यानी माइक्रोसेफाली से नहीं पाया गया है माइक्रोसेफाली जन्मजात विकृति है, जिसमें बच्चों के सिर का विकास सामान्य से कम होता है यानी सिर का आकार बहुत ज्यादा छोटा होता है मंत्रालय ने एक बयान में कहा, “जीका वायरस जनित रोग के एडवांस्ड मॉलिक्यूलर स्टडीज में बताया गया है कि राजस्थान में वर्तमान में जीका वायरस से प्रभावित मरीजों में माइक्रोसेफाली  एडीज मच्छर में पाए जाने वाले जीका वायरस का संबंध नहीं है “Image result for जीका वायरस से बचना हो तो करे ये उपाय...

मंत्रालय ने बोला कि भारतीय कॉउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च-नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी ने जयपुर में इसके प्रकोप के अलग-अलग समय पर जीका वायरस के पांच नमूनों से नतीजा निकाला जयपुर में जीका वायरस के प्रकोप में 135 लोग प्रभावित हुए हैं

Loading...

हालांकि गवर्नमेंट जीका वायरस से गर्भवती स्त्रियों पर होने वाले खतरों की आसार की निगरानी कर रही है, क्योंकि यह रोग भविष्य में अलग रूप ले सकता है या कुछ अन्य अज्ञात कारक माइक्रोसेफाली में किरदार निभा सकता है  अन्य जन्मजात विकृति हो सकती है मंत्रालय ने बोला कि प्रतिदिन आधार पर दशा की समीक्षा की जा रही है जीका वायरस के लिए करीब 2,000 नमूनों की जांच की गई, जिनमें से 159 पॉजिटिव मामलों की पुष्टि हुई है

loading...
Loading...
loading...