Tuesday , October 16 2018
Loading...

पूछताछ के बाद कोच्ची पुलिस को मिले अहम सबूत

 केरल में नन से बलात्कार और अप्राकृतिक यौन संबंध के आरोप में जालंधर के बिशप फै्रंको मुलक्कल को कोच्ची में शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया गया। तीन दिन की लगातार पूछताछ के बाद कोच्ची पुलिस को बिशप के खिलाफ पर्याप्त सबूत मिल गए थे, जो उनकी गिरफ्तारी का मुख्य आधार बने। सूत्रों के अनुसार बिशप से लंबी पूछताछ के बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया।

फै्रंको मुलक्कल को शुक्रवार को लगातार तीसरे दिन पूछताछ के लिए तिरुवनंतपुरम स्थित अपराध शाखा कार्यालय में बुलाया गया था।  वहीं पर बिशप फै्रंको को गिरफ्तार करने का फैसला लिया गया। वीरवार को वेटिकन ने मुलक्कल को अस्थायी तौर पर उनकी जिम्मेदारियों से मुक्त कर दिया था। मुलक्कल जालंधर डायोसिस के तहत आने वाले मिशनरीज ऑफ जीसस के बिशप थे। पुलिस सूत्रों के अनुसार बिशप बार बार बयान पलट रहे थे। उनके कथन में बार-बार विसंगतियां भी मिल रही थीं।

पुलिस ने पूछताछ के दौरान बिशप फै्रंको के खिलाफ पर्याप्त सबूत इकट्ठा किए। फै्रंको मुलक्कल ने मंगलवार को केरल उच्च न्यायालय में अग्रिम जमानत याचिका दायर की जिस पर 25 सितंबर को सुनवाई होगी। बिशप ने अग्रिम जमानत की याचिका में दावा किया है कि उनके खिलाफ आरोप एक गढ़ी हुई कहानी है जिसका उद्देश्य बदला लेना है।

Loading...

बिशप ने दावा किया है कि आरोप लगाने वाली नन के खिलाफ उन्हें कई शिकायतें मिली थीं, जिन पर उन्होंने कार्रवाई की थी। नन ने कैथोलिक पादरी पर आरोप लगाया था कि उन्होंने 2014 से 2016 के बीच कई बार उसका यौन शोषण किया।

loading...
Loading...
loading...