Wednesday , December 19 2018
Loading...

गंगोत्री से गंगा सागर तक कई परियोजनाएं चल रही हैं- प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि काशी में चल रही बड़ी परियोजनाओं से यहां के उद्योग और व्यापार के क्षेत्र में नए संभावनाओं के द्वार खुले हैं। ‘प्रयत्न से परिवर्तन’ का नारा देकर पीएम मोदी ने काशी को पूर्वी भारत के गेटवे के रूप में विकसित करने के संकल्प को दोहराया।

बीएचयू के एंफीथियेटर ग्राउंड में 557  करोड़ रुपये की परियोजनाओं के लोकार्पण और शिलान्यास के बाद जनसभा में कहा, परंपरा व पौराणिकता काशी की पहचान है और चार वर्षों के दौरान शहर की पहचान को संरक्षित करके विकास किया गया है।

Loading...

प्रधानमंत्री ने काशी में चार साल पहले तक फैली अव्यवस्था को लेकर विपक्ष पर तंज कसा और कहा, कुछ लोगों ने हमारी काशी को भोले के भरोसे छोड़ दिया था। मगर अब बनारस को 21वीं सदी के मुताबिक वर्ल्ड क्लास इंफ्रास्ट्रक्चर से जोड़ा जा रहा है।

loading...

स्मार्ट बनारस में स्मार्ट परिवहन के लिए ट्रांसपोर्ट के हर तरीके को आधुनिक किया जा रहा है। उन्होंने कहा, पूर्वी भारत के मेडिकल हब के रूप में विकसित हो रहे बनारस में नए अस्पतालों का निर्माण तो हो ही रहा है, लेकिन पुराने अस्पतालों की भी सुध ली जा रही है।

बीएचयू में बनने जा रहे क्षेत्रीय नेत्र विज्ञान संस्थान की चर्चा कर पीएम ने कहा अब काशीवासियों को आंख के इलाज के लिए बड़े शहरों के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे।

फिर दोहराई गंगा सफाई की बात
बनारस में  प्रधानमंत्री ने गंगा सफाई के अपने संकल्प को दोहराया और बताया कि गंगोत्री से गंगा सागर तक कई परियोजनाएं चल रही हैं। काशी में 600 करोड़ से ज्यादा के प्रोजेक्ट इस वक्त हैं। इसमें दीनापुर और रमना में सीवर ट्रीटमेंट प्लांट का काम तेजी से चल रहा है, ताकि गंगा में गंदगी ना जाए ।

शहर भर में हजारों नए सीवर चैंबर के निर्माण के साथ डेढ़ सौ से भी अधिक सामुदायिक शौचालय का निर्माण किया गया है और पेयजल की व्यवस्था सुधारने के लिए भी काम चल रहा है।

प्रधानमंत्री ने अपील करते हुए कहा कि प्रवासी भारतीय सम्मेलन में बनारस का रस और रंग दिखे। दुनिया भर से आने वाले प्रवासी काशी के पर्यटन दूत बनकर लौटें। जनसभा के पूर्व पीएम ने पौधरोपण किया और तीन लाभार्थियों को अपने हाथों से प्रमाण पत्र भी दिया।

काशीवासी मेरे मालिक, हिसाब देना मेरा दायित्व

प्रधानमंत्री ने काशी वासियों से कहा, आपने मुझे भले ही प्रधानमंत्री पद का दायित्व दिया है, मगर सांसद के नाते मेरे काम का हिसाब आप ले सकते हैं। जनप्रतिनिधि और सेवक के नाते आप मेरे मालिक और हाईकमान हैं। इसलिए पाई-पाई और पल-पल का हिसाब देना मेरा दायित्व है।

पूरे समर्पण के साथ बनारस में हो रहे परिवर्तन के इस संकल्प को और मजबूत करें। नई काशी, नए भारत के निर्माण में आगे बढ़कर अपना योगदान दें।

Loading...
loading...