Wednesday , September 26 2018
Loading...
Breaking News

ऐतिहासिक स्तर पर गिरा रुपया

अंतरराष्ट्रीय बाजारों में कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी, डॉलर में मजबूती और देश के बढ़ते चालू खाता घाटा के बीच रुपये में डॉलर के मुकाबले सोमवार को फिर रिकॉर्ड गिरावट दर्ज की गई। रुपये ने डॉलर के मुकाबले 94 पैसे की गिरावट के साथ 72.67 का नया तल छू लिया। अंतरबैंक फॉरेक्स बाजार में शुक्रवार को रुपया 71.73 पर बंद हुआ था।

आरबीआई के शुक्रवार को जारी आंकड़े के मुताबिक बढ़ते व्यापार घाटे के कारण देश का चालू खाता घाटा बढ़ा है। अप्रैल-जून तिमाही में चालू खाता घाटा 15.8 अरब डॉलर रहा, जो एक साल पहले की समान अवधि में 15 अरब डॉलर था।

मुद्रा बाजार के एक कारोबारी ने कहा कि घरेलू आर्थिक स्थिति, डॉलर में मजबूती और मुद्रा संकट की आशंका से रुपये में दबाव रहा। अमेरिका में अगस्त के बेहतर रोजगार आंकड़े और अमेरिका-चीन व्यापार युद्ध के गहराने की चिंता से शुरुआती एशियाई कारोबार में प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले डॉलर में मजबूती रही।

Loading...

7 देश विनिमय दर संकट की जद में : नोमुरा

loading...

सात देशों में मुद्रा विनिमय दर का संकट पैदा हो सकता है। यह बात नोमुरा के एक नए इंडेक्स ‘डैमोकल्स’ में कहा गया है। डैमोकल्स इंडेक्स में 30 उभरती बाजार वाली अर्थव्यवस्थाओं का मूल्यांकन किया गया है। इसमें कहा गया है कि सात देशों के सामने विनिमय दर संकट का जोखिम है।

इन्हें 100 से अधिक अंक मिले हैं। ये हैं श्रीलंका, दक्षिण अफ्रीका, अर्जेंटीना, पाकिस्तान, मिस्र, तुर्की और यूक्रेन। भारत को 25 अंक मिला है। 100 से अधिक अंक का मतलब है कि देश में अगले 12 महीने में जोखिम पैदा हो सकता है।

175 रुपये बढ़ा चांदी का दाम

विदेशों से सुस्त रुझान के बावजूद स्थानीय आभूषण निर्माताओं की ओर से हुई खरीद के कारण सोमवार को सराफा बाजार में सोने का भाव 200 रुपये की तेजी के साथ 31,550 रुपये प्रति 10 ग्राम पर रहा। डॉलर के मुकाबले रुपये का भाव 72.67 रुपये प्रति डॉलर पहुंचने के कारण सोने का आयात महंगा हुआ है, जिससे सोने में यह तेजी आई है।

वहीं, औद्योगिक इकाइयों व सिक्का निर्माताओं की ओर से तेज लिवाली से चांदी का भाव 175 रुपये की बढ़त के साथ 37,950 रुपये प्रति किलोग्राम पर रहा। स्थानीय आभूषण निर्माताओं की ओर से गहनों की बढ़ती मांग के लिए की गई सोने की खरीदारी से सोने के भाव में तेजी आई है, लेकिन विदेशों से कमजोर रुझान ने इस तेजी को सीमित रखा।

Loading...
loading...