Friday , November 16 2018
Loading...
Breaking News

कमर दर्द और पेट की समस्या से छुटकारा दिलाता है यह योग

शलभासन योग, पेट की समस्या से छुटाकारा पाने में बेहद फायदेमंद आसन है। इसके नियमित अभ्यास से वजन कम किया जा सकता है। इसके अलावा रीढ़ की हड्डी और पीठ की मजबूती के लिए यह आसन बेहद कारगर है। इस आसन के अभ्यास के दौरान शरीर की स्थिति शलभ कीट के आकार की होती है, इसलिए इसे शलभासन नाम दिया गया है। अंग्रेजी भाषा में इसे लॉट्स पोज कहा जाता है। आइए आज हम आपको शलभासन करने की विधि और इसके फायदों के बारे में बताते हैं।

ऐसे करें शलभासन : इस आसन के अभ्यास के लिए सबसे पहले जमीन पर एक चटाई बिछाकर पेट के बल लेट जाएं। अपने दोनों हाथों को जांघाओं के बराबर में सीधा करके के रखें। अपनी गर्दन ऊपर की ओर उठाएं, आपकी ठोडी जमीन पर टिकी होनी चाहिए। अब सांस अंदर लेते हुए पैरों को धीरे-धीरे बिना मोड़े ऊपर की ओर उठाने की कोशिश करें। अब आप शलभासन की पोजिशन में हैं। जितना हो सके इस स्थिति में रुकें। अब सांस बाहर छोड़ते हुए धीरे-धीरे पैरों को नीचे लाएं। शुरुआत में इस आसन का अभ्यास 3 से 4 बार करें, धीरे-धीरे अभ्यास का अंतराल सुविधानुसार बढ़ा सकते हैं।

Loading...

शलभासन के फायदे

loading...

– इस आसन के नियमित अभ्यास से पेट की कई समस्याओं में फायदा होता है।
– पाचन क्रिया को दुरुस्त रखने के लिए यह आसन बेहद कारगर साबित होता है।
– जो लोग कमर दर्द की समस्या से परेशान हैं, उनके लिए इस आसन का अभ्यास लाभदायक होता है।
– अस्थमा के रोगियों के लिए भी यह आसन फायदेमंद होता है।
– शलभासन का अभ्यास करने से कब्ज की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है।
– इस आसन के नियमित अभ्यास से बल्ड सर्कुलेशन ठीक होता है।
– इसके अभ्यास से शरीर लचीला और मजबूत बनता है।
– यह आसन साइटिका को ठीक करने के लिए अहम भूमिका निभाता है।
– वजन कम करने के लिए भी शलभासन बेहद लाभकारी साबित होता है। यह बेली फैट को कम करने में मददगार होता है।
– डायबिटीज रोगियों के लिए भी यह आसन लाभकारी होता है। यह पैंक्रियास को नियंत्रण करता है और मधुमेह के प्रबंधन में सहायक है।
– इस आसन के नियमित अभ्यास से गैस की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है।

Loading...
loading...