Wednesday , September 19 2018
Loading...

राहुल गांधी की अगुवाई में विपक्ष का मार्च शुरू

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगी महंगाई की आग से भड़की कांग्रेस ने सोमवार को भारत बंद का आह्वान किया है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी भारत बंद में शामिल होने के लिए राजघाट पहुंच गए हैं। राजघाट से ही कांग्रेस का मार्च शुरू करेगी। बता दें कि राहुल गांधी कैलाश मानसरोवर की यात्रा से पहले 12 तारीख को वापस आने वाले थे लेकिन भारत बंद की वजह से वह दो दिन पहले ही लौट आए हैं। राहुल गांधी ने महात्मा गांधी की समाधि पर कैलाश मानसरोवर से लाया जल चढ़ाया है।

इसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष ने मार्च की अगुवाई शुरू की। राहुल गांधी के साथ कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं समेत विपक्ष के के कई नेता भी राजघाट से महंगाई के खिलाफ मार्च पर निकल चुके हैं।

कांग्रेस ने भारत बंद के लिए सभी विपक्षी दलों को साथ आने की बात कही है। समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, राष्ट्रीय जनता दल, झारखण्ड मुक्ति मोर्चा और नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी ने कांग्रेस के भारत बंद में साथ देने का फैसला किया है। वहीं पश्चिम बंगाल के प्रमुख दल तृणमूल कांग्रेस ने भारत बंद का समर्थन नहीं किया है, लेकिन वह इस दौरान महंगाई के खिलाफ प्रदर्शन करेगी।

Loading...

वामपंथी दलों ने कांग्रेस के बंद से अलग अपने भारत बंद के कार्यक्रम को बुलाया है। कांग्रेस ने दावा किया है कि उसके भारत बंद को 21 विपक्षी दलों का समर्थन हासिल है। राजनीतिक दलों के अलावा भारतीय राष्ट्रीय किसान यूनियन ने भी सरकार के खिलाफ प्रदर्शन में साथ देने की बात कही है।

loading...

विपक्षी एकता की परीक्षा

रविवार को दिल्ली में आयोजित भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में बोलते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने यह कहकर कांग्रेस पर जबरदस्त हमला किया कि उसके राष्ट्रीय नेतृत्व को कोई नेता नहीं मानता। उन्होंने राहुल गांधी का नाम लिए बिना उन पर हमला किया और कहा कि उन्हें विपक्ष का छोटा सा दल भी नेता स्वीकार करने को तैयार नहीं है, ऐसे में विपक्ष का महागठबंधन बनना लगभग नामुमकिन है।

इस भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी इसी तरह की बात कही है। ऐसे में सोमवार को बुलाया गया भारत बंद विपक्षी दलों की एकता के लिटमस टेस्ट के तौर पर देखा जा रहा है। खुद कांग्रेस को भी इस बात का एहसास है। यही कारण है कि उसके नेताओं ने बंद को सफल बनाने के लिए कमर कस लिया है। आरजेडी के रघुवंश प्रसाद सिंह ने भी इस बन्द को अभूतपूर्व बनाने की बात कही है। साल 2019 के चुनाव के पूर्व यह विपक्षी दलों की रणनीति के हिसाब से यह कार्यक्रम बेहद अहम माना जा रहा है।

जानकारी के मुताबिक कांग्रेस पार्टी के सभी शीर्ष नेता अपने-अपने राज्यों में भारत बंद को सफल बनाने के लिए सक्रिय रहेंगे। सभी राज्यों में पार्टी के कार्यालयों, जिला मुख्यालयों और अन्य संस्थानों पर भारत बंद किया जाएगा। कांग्रेस नेताओं के द्वारा सभी पेट्रोल पंपों पर प्रदर्शन किया जा सकता है। इस तरह बंद को सफल दिखाने की पूरी कोशिश की जाएगी।

Loading...
loading...