X
    Categories: क्राइम

ड्रग कंट्रोलर व पुलिस प्रशासन ने मिल कर की छापामारी

सिविल लाइन थाने से मात्र 200 मीटर, जबकि छोटू राम चौक पर लगे पुलिस नाके से 150 मीटर की दूरी पर ही एक रेस्टोरेंट में प्रतिबंधित हुक्का बार चल रहा था। पुलिस और प्रशासन की टीम ने छापेमारी करते हुए हुक्का बार बैठक के दो संचालकों को धर दबोचा, जबकि एक फरार हो गया। आर्य नगर थाने में तीनों के खिलाफ प्वॉइजनिंग एक्ट समेत विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज किया गया है। पुलिस का दावा है कि तीन माह से प्रतिबंधित हुक्का बार चल रहा था।

शनिवार को संयुक्त छापामारी में ड्रग विभाग ने खुलासा किया है कि रेस्टोरेंट के नाम पर युवाओं को केमिकल फोरम में जहरीला नशा परोसा जा रहा है। मौके पर टीम ने दस से अधिक फ्लेवर का तंबाकू, स्पेशल कोयला व नौ हुक्के बरामद किए हैं। जांच अधिकारी ने बताया कि भिवानी निवासी प्रिंस सहगल और राजीव कॉलोनी निवासी भारत को मौके से पकड़ा है, ये दोनों मिलकर हुक्का बार चलाते थे। अधिकारी ने बताया कि आरोपियों पर पीओटीपीए, प्वॉइजन एक्ट व ड्रग कास्मेटिक एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है। मनदीप मान ने बताया कि केमिकल फॉर्म में निकोटिन का प्रयोग ब्लड ब्रेन बैरियर को क्रॉस कर देता है, इससे मल्टीपल ऑर्गेन फेल हो सकते हैं। इसी आधार पर हाईकोर्ट ने इसे प्रतिबंधित किया था। जांच टीम ने एएसआई सत्यवान सहित जितेंद्र, दिलबाग व सोनू शामिल रहे।

Loading...

यह है सजा का प्रावधान
धारा सेक्शन 18 ए 18सी के तहत ड्रग एंड कॉस्मेटिक एक्ट के तहत पांच साल जेल व एक लाख रुपये जुर्माना
सेक्शन 6 : प्वॉइजन लाइसेंस नहीं होने पर छह माह की जेल व एक हजार रुपये जुर्माना
पोटपा के तहत एक साल की जेल व पांच हजार रुपये जुर्माना सेक्शन सात

loading...

जिले में जहां भी चोरी-छिपे प्रतिबंधित हुक्का बार चल रहे हैं, उन पर कार्रवाई होगी। इसके लिए टीम लगातार छापामारी अभियान चलाएगी। यह युवाओं के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ है। शुरुआत में शौक और बाद में यही फ्लेवर वाला हुक्का मौत का कारण बन जाता है। शनिवार को की गई कार्रवाई गुप्त सूचना के आधार पर की गई है, आगे भी ऐसे जांच अभियान जारी रहेंगे।
– मनदीप मान, ड्रग कंट्रोलर

प्रतिबंधित हुक्का बार पर छापेमारी के दौरान दो को पकड़ा गया है, जबकि फरार आरोपी को तलाश किया जा रहा है। तीनों पर केस दर्ज कर लिया गया है। मामले की जांच की जा रही है। आरोपियों ने पूछताछ में पता चला कि पिछले तीन माह से रेस्टोरेंट की आड़ में हुक्का बार चल रहा था। आरोपियों से अभी पूछताछ की जा रही है।
-राकेश सैनी, एसएचओ, थाना आर्य नगर

अन्य प्रतिबंधित हुक्का बार संचालकों की भी खैर नहीं
सूत्रों के अनुसार जिले के अन्य स्थानों पर भी प्रतिबंधित हुक्का बार रेस्टोरेंट की आड़ में चल रहे हैं। पुलिस प्रशासन ने ऐसे बार का ब्योरा तैयार करा लिया है। सभी पर जल्द ही शिकंजा कसा जा सकता है। पुलिस प्रशासन की कार्रवाई से प्रतिबंधित बार संचालकों में भी हड़कंप मचा हुआ है।

सिंथेटिक तंबाकू का सेवन कराया जा रहा था
हुक्का बार पर सिंथेटिक तंबाकू का सेवन कराया जा रहा था। यह शरीर के अलावा मानसिक रूप से भी व्यक्ति को नुकसान पहुंचाता है। इससे शरीर के विभिन्न हिस्सों पर दुष्प्रभाव पड़ता है। समय पर यदि इसका नशा न छोड़ा जाए तो यह जीवन के लिए घातक हो जाता है। सबसे बड़ी समस्या यह है कि यह युवा वर्ग को अधिक प्रभावित करता है।
-डॉ. विनय रावत, असिस्टेंट प्रोफेसर, राज्य व्यसन निर्भरता उपचार केंद्र

शहर में चोरी-छिपे चल रहा कारोबार
घर तो दूर हुक्का बार शहर के विभिन्न स्थानों पर चोरी-छिपे चल रहा है। यह अधिकांश शहर के पॉश एरिया व स्कूल-कॉलेजों के आसपास व मुख्य बाजारों में संचालित होता है। सूत्रों की मानें तो इसका प्रयोग कुछ लोग घरों में भी कर रहे हैं।

पहले हो चुकी कार्रवाई
वर्ष 2012 में 4 मामले
वर्ष 2015 में एक मामला
वर्ष 2017 में एक मामला

हरियाणा की शान के नाम पर परोसा जा रहा हुक्के में सिंथेटिक तंबाकू
ड्रग विभाग की मानें तो प्रदेश में हुक्का सामाजिक प्रतिष्ठा का प्रतीक माना जाता है, इसे बडे़ बुजुर्ग घर में प्रयोग करते हैं। इस परंपरा का फायदा हुक्का बार उठाकर युवाओं को सिंथेटिक तंबाकू का लती बनाया जा रहा है।

Loading...
News Room :

Comments are closed.