Thursday , November 15 2018
Loading...

श्रीलंका के खिलाफ जीत से खुश, पर प्रदर्शन से नहीं : कांस्टेनटाइन

ज्यादातर 23 बरस से कम उम्र के खिलाडियों से सज्जिज भारत की नौजवान टीम ने ढाका में सैफ फुटबॉल चैंपियनशिप में अपने बुधवार को अपने अभियान का आगाज श्रीलंका ‘फतह’ के साथ किया। एआईएफएफ के मुताबिक राष्ट्रीय फुटबॉल कोच स्टीफन कांस्टेनटाइन मैच के नतीजे श्रीलंका पर जीत से खुश हैं लेकिन उसके खिलाफ प्रदर्शन से नहीं।

कोंस्टेनटाइन ने कहा, ‘हमें अब मालदीव के खिलाफ रविवार को मालदीव के खिलाफ मैच से पहले उन गलतियों को दूर करना होगा जो कि हमने श्रीलंका के खिलाफ पहले मैच में बुधवार को की थीं। हमने अच्छी जीत के साथ आगाज किया लेकिन मैं टीम के प्रदर्शन से खुश नहीं हूं। हम श्रीलंका के खिलाफ कुछ और ज्यादा गोल कर सकते थे। हमें यह सीखना होगा कि हम और स्मार्ट खेल कैसे दिखा सकते हैं। हमें इससे बेहतर खेल सकते थे। हमारे टीम के खिलाड़ी नौजवान हैं और आप ऐसे में  उनसे हर बार बेहतर खेल की आस नहीं कर सकते हैं। फिर भी मैं यह कहूंगा कि जीत मैच का सबसे अहम हिस्सा है। हमें अब इस जीत से आगे बढना होगा। हमने भले ही एएफसी एशियन कप के लिए क्वॉलिफाई कर लिया है, फिर भी हमें लगातार अैर खिलाड़ी चाहिए। बराबर नए खिलाड़ी आएंगे तो वे सीनियर खिलाडिय़ों पर दबाव बना कर उन्हें और बेहतर प्रदर्शन करने को मजबूर करेंगे। हम अपने इन नौजवान खिलाडिय़ों को कुछ और अंतर्राष्ट्रीय मौके देने की नीति पर काबिज रहेंगे।’

श्रीलंका के खिलाफ  मैच में ‘मोस्ट वेल्युबल प्लेयर’ रहे आशिक कुर्नियान ने कहा ने राष्ट्रीय कोच कांस्टेनटाइन की राय से इत्तफाक जताया। कुर्नियान ने कहा, %मैं श्रीलंका के अपना पहला अंतर्राष्ट्रीय गोल कर बहुत खुश हूं। मुझे राष्ट्रीय टीम के लिए और गोल करने होंगे।’

Loading...
Loading...
loading...