Friday , November 16 2018
Loading...

शिवांगी पाठक का मिशन ‘माउंट एल्ब्रुस’ सफल

भारत की 17 वर्षीय पर्वतारोही शिवांगी पाठक ने माउंट एवरेस्ट और किलिमंजारो के बाद यूरोप की सबसे ऊंची पर्वत श्रृंखला माउंट एल्ब्रुस को भी फतह कर लिया है। शिवांगी ने 2 सितंबर को 5642 मीटर ऊंचाई पर बने बेस कैंप से एल्ब्रुस की चढ़ाई की शुरुआत की। 4 सितंबर सुबह 7:56 बजे उनका ‘मिशन माउंट एल्ब्रुस’ पूरा हुआ।

बता दें कि उनके साथ एक और भारतीय पर्वतारोही 22 साल के रोहताश खिलेरी ने भी माउंट एल्ब्रुस की सफल चढाई की। शिवांगी और रोहताश ने पिछले चार महीने में दुनिया की तीन सबसे ऊंची चोटियां फतह की हैं। बता दें शिवांगी 18 साल की होने से पहले दुनिया की सात सबसे ऊंची चोटियों पर देश का तिरंगा फहराना चाहती हैं।

शिवांगी की इस उपलब्धि पर खुशी जताते हुए उनकी माता आरती पाठक ने बताया कि उन्हें बहुत खुशी हो रही है कि उनकी बेटी शिवांगी पाठक और रोहताश खिलेरी दोनों ने बुधवार को यूरोप की सबसे ऊंची पर्वत श्रृंखला माउंट एल्ब्रुस को फतह कर लिया यह उनकी विजय का तीसरा कदम हैं।

Loading...
यूरोप की सबसे ऊंची चोटी माउंट एल्ब्रुस पर पहुंचते ही शिंवागी ने देश और दुनिया को कई स्पेशल मैसेज दिए। उन्होंने ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ और ‘पृथ्वी रहेगी तो जीवन रहेगा’ के स्लोगन पोस्टर के साथ अपनी तस्वीरें भी शेयर की।

माउंट एल्ब्रुस पर शिवांगी के अनुभव के बारे में बताते हुए उनकी मां ने बताया कि जब वह 1 हजार मीटर की ऊंचाई पर पहुंची तो तेज तूफान आ गया। ऐसे में पहाड़ चढ़ना आसानी नहीं था तो वे वापस बेस कैंप लौट गए। अगले दिन 3 सितंबर को फिर से चढ़ाई शुरू की और इस बार वह किला फतह करके ही वापस लौटीं।

loading...
Loading...
loading...