Friday , November 16 2018
Loading...
Breaking News

शिक्षक दिवस पर अध्यापिका ने दिखाया रौद्र रूप

पूरे देश में जहां बुधवार को शिक्षक दिवस मनाया गया वहीं दूसरी ओर एक शिक्षिका का रौद्र रूप देखने को मिला। पंजाब के खरड़ के गांव बल्लोमाजरा के सरकारी मिडिल स्कूल की एक अध्यापिका ने पाठ याद न करने पर आठवीं की दो छात्राओं को कथित तौर पर डंडों से बुरी तरह पीट डाला। दोनों छात्राओं को परिजनों ने सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया है।

अस्पताल में छात्रा सुखबीर कौर (13) और कमलजीत कौर (12) दोनों निवासी गांव बरियाली ने आरोप लगाया कि साइंस व पंजाबी की अध्यापिका रूपाली सूद ने साइंस का एक पाठ याद करने के लिए 10 मिनट का समय दिया था, लेकिन समय कम होने के कारण वे इसे याद नहीं कर सकीं। इस पर अध्यापिका ने उन दोनों को डंडे से मारना शुरू कर दिया। अध्यापिका ने छात्राओं की गर्दन के दोनों तरफ तथा पीठ पर डंडे से कई प्रहार करते हुए कहा कि अगले दस मिनट में उन्होंने पाठ याद नहीं किया तो वे उन्हें और मारेगी।

स्कूल से छुट्टी होने पर घर पहुंची दोनों छात्राओं ने सारी घटना परिजनों को बताई। पीड़ित छात्राओं के माता-पिता इसे लेकर प्रिंसिपल से मिले, लेकिन उन्होंने मामले को अनसुना कर दिया। दोनों छात्राओं को उनके माता-पिता ने अस्पताल में दाखिल करवाया। परिजनों का आरोप है कि अस्पताल में दाखिल होने की खबर पाकर अध्यापिका ने छात्राओं के माता-पिता से फोन पर संपर्क किया और मामले को तूल न देने को कहा। गरीब परिवार होने के कारण अध्यापिका ने उन्हें पैसों का लालच भी दिया।

Loading...

परिजनों ने शिक्षा मंत्री से की शिकायत
छात्राओं के पिता अमरीक सिंह और कुलदीप सिंह ने सूबे की शिक्षा मंत्री ओपी सोनी से मांग की है कि उनकी बेटियों को डंडों से मारने वाली अध्यापिका को तुरंत सस्पेंड किया जाए। गांववासियों में भी इस घटना को लेकर रोष है।

loading...

‘पैसों का कोई आफर नहीं दिया’
दूसरी ओर सरकारी अस्पताल पहुंचे अध्यापिका रूपाली सूद के पति कंवलजीत सिंह का कहना है कि उनकी पत्नी ने छात्राओं के भविष्य के लिए चैप्टर याद करने को कहा था। बच्चियों द्वारा याद न करने पर उसकी पत्नी ने इन दोनों को डांट लगाई थी। उनकी पत्नी ने छात्राओं के माता-पिता को पैसों का कोई आफर नहीं दिया है।

Loading...
loading...