Friday , September 21 2018
Loading...

कार में बैठते ही पीएम मोदी करते हैं सबसे पहला ये काम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत के सबसे बड़े सोशल मीडिया स्टार हैं। युवा भारत के वो ऐसे प्रधानमंत्री हैं, जो सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं। प्रधानमंत्री के रूटीन से लेकर उनके पहनावे तक, हर चीज के बारे में लोग जानने को बेहद इच्छुक रहते हैं।

सोशल मीडिया पर पीएम नरेंद्र मोदी का एक वीडियो बहुत तेजी से वायरल हो रहा है। प्रेस सूचना ब्यूरो (पीआईबी) ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर पीएम मोदी से जुड़ा एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें प्रधानमंत्री गाड़ी में बैठते ही सीट बेल्ट लगाते नजर आ रहे हैं। यातायात नियमों को लेकर उनकी सजगता से सोशल मीडिया में उनकी काफी तारीफ हो रही है। पीआईबी ने सड़क सुरक्षा जागरूकता अभियान के तहत इस वीडियो को शेयर किया है। अगर हम सबको भी हादसों से बचना है तो इसी तरह के कुछ यातायात नियमों का पूरी तरह से पालन करना होगा।

Loading...

पीआईबी ने अपने ट्विटर हैंडल पर वीडियो पोस्ट करते हुए लिखा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कार में बैठने के बाद सबसे पहले सीट बेल्ट लगाते हैं। क्या आप करते हैं? जिसके बाद उन्होंने लिखा है- सीट बेल्ट जरूर लगाएं और उन्होंने सड़क सुरक्षा जीवन रक्षा को हैशटैग किया है।

loading...

सोशल मीडिया में पीएम के वायरल हो रहे इस वीडियो को अब तक पांच हजार से ज्यादा लाइक्स मिल चुके हैं और 2 हजार से ज्यादा लोग अब तक वीडियो पर कमेंट भी कर चुके हैं। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन का कहना है कि सीट बेल्ट लगाना प्राथमिक संयम प्रणाली है जो 45 से 60 प्रतिशत तक सड़क में मौत के खतरे को कम कर सकता है जबकि मारुति सुजुकी इंडिया लिमटेड ने 2017 में एक अध्ययन किया था जिसमें खुलासा हुआ था कि सिर्फ 25 प्रतिशत लोग ही सीट बेल्ट रेगुलर लगाते हैं।

इसलिए, हम भी आपसे अपील करते हैं कि अपने जीवन की कीमत को समझें। बाइक चलाते वक्त हेल्मेट अवश्य पहनें और कार चलाते वक्त सीट बेल्ट जरूर लगाएं। आज से ही अपनी आदतें बदल लीजिए और समझदार बन जाइए। आपकी जान बचाने की जिम्मेदारी सरकार की नहीं आपकी खुद की है।

सड़क हादसों में सबसे ज्यादा मौतें भारत में होती हैं- आईआरएफ

सड़क हादसों में भारत को हर साल मानव संसाधन का सर्वाधिक नुकसान होता है। अंतरराष्ट्रीय सड़क संगठन (आईआरएफ) की रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया भर में 12.5 लाख लोगों की प्रति वर्ष सड़क हादसों में मौत होती है. इसमें भारत की हिस्सेदारी 10 प्रतिशत से ज़्यादा है। जिनेवा स्थित आईआरएफ के अध्यक्ष केके कपिला ने बताया कि भारत में साल 2016 में 1,50,785 लोग सड़क हादसों में मारे गए। यह किसी भी देश के मानव संसाधन का सर्वाधिक नुकसान है।

Loading...
loading...