X
    Categories: राष्ट्रीय

इन तीन राज्यों के भी हो सकते हैं विधानसभा चुनाव

सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि आगामी लोकसभा चुनाव अगले साल अपने तय समय पर अप्रैल-मई महीने में ही कराए जाएंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने अपनी पार्टी के शासन वाले राज्यों के मुख्यमंत्रियों को इसके लिए जनवरी तक कमर कस लेने के निर्देश जारी किए। इन सभी को अपने-अपने राज्य में वर्ष 2014 से भी बड़ी जीत आगामी लोकसभा चुनावों में हासिल करने का संकल्प दिलाया गया है।

हाल के दिनों में कई बार दिसंबर महीने में होने जा रहे तीन राज्यों मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान के विधानसभा चुनावों के साथ ही लोकसभा चुनाव भी कराए जाने की अफवाहें फैली थीं। लेकिन मंगलवार को बैठक में मौजूद पार्टी सूत्रों के अनुसार, मोदी और शाह ने सभी मुख्यमंत्रियों से इन अफवाहों पर ध्यान नहीं देने को कहा है। साथ ही उन सभी को छत्तीसगढ़ सरकार की तर्ज पर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर अपने-अपने राज्य में कुछ अहम योजनाएं चालू करने का भी लक्ष्य दिया गया।

झारखंड, हरियाणा, महाराष्ट्र के चुनाव भी लोकसभा संग कराने पर राय
पार्टी सूत्रों ने बताया कि बैठक में सभी मुख्यमंत्रियों से लोकसभा चुनाव के साथ ही झारखंड, हरियाणा और महाराष्ट्र के विधानसभा चुनाव भी करा लेने के विकल्प पर राय मांगी गई। इन तीनों राज्यों की विधानसभा का कार्यकाल 2019 के अंत में खत्म हो रहा है।

Loading...

पार्टी के रणनीतिकारों का मानना है कि इन राज्यों के विधानसभा चुनाव लोकसभा के साथ ही कराने पर पार्टी को पीएम मोदी की छवि का लाभ मिल सकता है। इन राज्यों में भाजपा के लिए चिंता की स्थिति है। जहां महाराष्ट्र में सहयोगी शिवसेना गठबंधन के सवाल पर भाजपा से आंखमिचौली खेल रही है, वहीं हरियाणा की आंतरिक रिपोर्ट ठीक नहीं आ रही है।

loading...

मुख्यमंत्रियों से पूछा, कितनी सीटें जीतेंगे
बैठक में पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने अलग-अलग राज्यों के सीएम से उनके राज्य का चुनाव संबंधी फीडबैक मांगा। इस दौरान मुख्यमंत्रियों से उनके राज्य में पक्की जीत वाली सीटों और कमजोर सीटों की संख्या पूछी गई। साथ ही मुख्यमंत्रियों से कमजोर सीटों पर भावी रणनीति और वर्तमान राजनीतिक स्थिति की भी जानकारी ली गई।

Loading...
News Room :