X
    Categories: अंतर्राष्ट्रीय

तनावग्रस्त रोते हुए पायलट के कारण गई 51 लोगों की जान

नेपाल की राजधानी काठमांडू में 12 मार्च को अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर भीषण विमान दुर्घटना मामले की गुत्थी सुलझ गई है। जानकारी के मुताबिक, पायलट मानसिक और भावनात्मक तौर पर परेशान था। इस हादसे में 51 लोग मारे गए थे। नेपाल के जांचकर्ताओं ने यह जानकारी दी।

नेपाल की राजधानी काठमांडू के त्रिभुवन एयरपोर्ट से सटे एक फुटबॉल ग्राउंड में यह विमान गिरा था। गिरते ही इसमें आग लग गई और 51 लोगों की मौत हो गई थी। विमान में 67 यात्री और चालक दल के चार सदस्य सवार थे। इस विमान ने ढाका से उड़ान भरी थी। काठमांडू पोस्ट ने जांचकर्ताओं के हवाले से बताया है कि एक घंटे के उड़ान के दौरान कैप्टन आबिद का व्यवहार संतुलित नहीं था।

कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर में दर्ज बातचीत के विश्लेषण से पता चला है कि वह मानसिक अवसाद में था। नींद पूरी नहीं होने के कारण वह थका और सुस्त भी था। गौरतलब है कि 12 मार्च को बांग्लादेश के ढाका से उड़ान भरने वाली फ्लाइट काठमांडू एयरपोर्ट पर दुर्घटना का शिकार हो गई थी।

Loading...

नेपाल के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर इस घातक विमान दुर्घटना की लीक हुई जांच रिपोर्ट के मसौदे के मुताबिक, विमान का कप्तान अपने कौशलों पर सवाल उठाए जाने के बाद उड़ान के दौरान भावनात्मक रूप से टूट गया था।

loading...

अंतिम जांच रिपोर्ट के मसौदा से यह निष्कर्ष निकलता है कि अमेरिकी बांग्ला एयरलाइन्स के कप्तान अपनी एक सहयोगी द्वारा “एक अच्छे प्रशिक्षक के रूप में उनकी प्रतिष्ठा पर सवाल उठाए जाने के बाद” वे “तनाव में थे और भावनात्मक रूप से परेशान” थे।

“इस अविश्वास और तनाव की वजह से वे लगातार कॉकपिट में धूम्रपान कर रहे थे और उड़ान के दौरान कई बार भावनात्मक रूप से टूटने का सामना किया।”  रिपोर्ट के मुताबिक कप्तान आबिद सुल्तान उड़ान के दौरान कई बार रोए और छींके।

सुल्तान बांग्लादेश वायुसेना के पायलट रह चुके थे। ढाका से काठमांडू तक की छोटी उड़ान के दौरान सुल्तान, जो कि एयरलाइन के लिए प्रशिक्षक भी थे, लगातार बात कर रहे थे और उन्होंने अपनी सहयोगी कनिष्ठ सह-पायलट पर अपनी क्षमता और दक्षता की प्रभाव डालने की कोशिश की।

Loading...
News Room :

Comments are closed.