Friday , April 19 2019
Loading...
Breaking News

एशियाई खेलों में भारत को लगा तगड़ा झटका

भारत को इंडोनेशिया के जकार्ता और पालेमबांग में चल रहे एशियाई खेल 2018 में रविवार को तगड़ा झटका लगा, जब पुरुषों की 10,000 मीटर रेस में ब्रॉन्ज जीतने वाले भारतीय धावक गोविंदन लक्ष्मणन से मेडल छीन लिया गया। गोविंदन को लेन उल्लंघन का दोषी पाते हुए डिस्क्वालिफाई कर दिया गया।

एक वीडियो फुटेज सामने आया, जिसमें दिखा कि भारतीय धावक का पैर ट्रैक के अंदर छुआ गया। रेफरी ने इस वीडियो को देखने के बाद आईएएएफ 163.3 बी (लेन उल्लंघन) के अंतर्गत लक्ष्मणन को डिस्क्वालिफाई करने का फैसला किया। लक्ष्मणन ने रेस की समाप्ति 29 मिनट 44.91 सेकंड्स में पूरी की थी।

भारतीय एथलीट इस दौरान बहरीन के चानी हसन और चेरोबेन अब्राहम से पीछे रहे। बहरीन के इन दोनों धावकों ने क्रमश गोल्ड व सिल्वर मेडल जीता। चानी ने 28:35.54 जबकि अब्राहम ने 29:00.29 के समय में रेस पूरी की थी।

भारतीय एथलीट्स से मेडल छीन लिया गया है और अब यह ब्रॉन्ज चीन के चांगहोंग झाओ को दिया जाएगा।

जब खारिज हुई भारत की अपील, फैंस को लगा जोरदार झटका
भारत की एथलेटिक्स फेडरेशन ने ट्वीट करके बताया कि इस मामले पर उनके द्वारा दर्ज कराई अपील खारिज कर दी गई और गोविंदन लक्ष्मणन से ब्रॉन्ज मेडल छीन लिया जाएगा।
अगर वह डिस्क्वालिफाई नहीं होते तो लक्ष्मणन 10,000 मीटर रेस में गुलाब चंद के बाद मेडल जीतने वाले पहले भारतीय धावक होते। गुलाब ने 1998 बैंगकॉक एशियाई खेलों में ब्रॉन्ज मेडल जीता था।

बहरहाल, 18वें एशियाई खेलों में रविवार का दिन भारत के लिए अच्छा रहा। फर्राटा धावक हिमा दास और मोहम्मद अनस ने अपने-अपने इवेंट्स में सिल्वर मेडल जीता। दास और अनस ने महिला और पुरुष 400 मीटर रेस में सिल्वर मेडल जीते। दास ने अपनी रेस 50.59 जबकि अनस ने अपनी रेस 45.69 के समय में पूरी की।

loading...