X
    Categories: राजनीति

श्रद्धांजलि देने के प्रस्ताव का विरोध करना एक ओवैसी पार्षद को पड़ा बेहद महंगा

हिंदुस्तान के पूर्व पीएम  भाजपा के वरिष्ठ नेता रह चुके को श्रद्धांजलि देने के प्रस्ताव का विरोध करना एक ओवैसी पार्षद को बेहद महंगा पड़ गया है. इस मामले में अब उन्हें एक वर्ष की सजा हो गयी है.

दरअसल एआईएमआईएम के पार्षद सैयद मतीन राशिद ने कुछ दिनों पहले औरंगाबाद में नगर निगम की मीटिंग में पूर्व पीएम को श्रद्धांजलि देने प्रस्ताव का जमकर विरोध किया था.उस वक्त उनके इस कदम से गुस्साए बीजेपी पार्षदों ने उनकी जमकर पिटाई की थी. उस वक्त तो पुलिस ने किसी तरह उन्हें बचा लिया था लेकिन अब उन्हें एक वर्ष की सजा सुना दी गई है. राशिद के विरूद्ध पुलिस ने महाराष्ट्र प्रिवेंशन ऑफ डेंजरस एक्टिविटीज ऑफ स्लमलॉड्र्स, बुटलेगर्स, ड्रग ओफेंडर्स  डेंजरस पर्सन एक्ट 1981 के तहत मामला दर्ज किया है.

Loading...

इस मामले में औरंगाबाद कमिश्नर चिरंजीव प्रसाद ने बयान दिया कि पार्षद सैयद विरूद्ध के ऊपर जो आरोप हैं उसके उसके बाद हमारे पास उन्हें कस्टडी में लेने के अतिरिक्त कोई विकल्प नहीं बचा. आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि राशिद इससे पहले भी विवादों में रह चुके हैं. इससे पहले वे तब विवादों में आ गए थे जब उन्होंने नगर निगम में राष्ट्रगान बजाने का विरोध किया था.

loading...
Loading...
News Room :

Comments are closed.