Thursday , September 20 2018
Loading...
Breaking News

मध्य प्रदेश में लगातार बारिश से बाढ़ जैसे हालात

मध्य प्रदेश में जबर्दस्त बारिश ने अब अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है।उज्जैन के नागदा, मंदसौर,रतलाम और नीमच में भारी बारिश की वजह से नुकसान हुआ है।

ज्यादातर नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं, शाजापुर में नाला पार करते हुए एक बाइक सवार युवक की मौत हो गई।प्रदेश में ज्यादातर जगहों पर सड़कें तेज जल बहाव में ढ़ह गई हैं जिससे गांवों का संपर्क शहर से टूट गया है।

नागदा में 36 घंटे में 4 इंच बारिश लगातार हुई जिससे कैचमेंट एरिया में चंबल नदी का जलस्तर बढ़ना शुरू हो गया था। बुधवार सुबह तक सैकड़ों साल पुराना चामुंडा माता मंदिर डूब गया। चंबल नदी में ऐसा उफान पहली बार देखा गया है। चंबल में पानी आते ही प्रशासन सक्रिय हो गया है और रात में ही चंबल किनारे सात से ज्यादा होमगार्ड जवानों की सुरक्षा उपकरणों के साथ ड्यूटी लगा दी गई। इससे पहले 2016 में इस दिन तक 36 इंच बारिश हो चुकी थी। चंबल में पानी बढ़ते ही मंदिर धीरे-धीरे डूबने लगा था। इस नजारे के साथ सेल्फी लेने के लिए शहर के लोग बड़ी संख्या में पहुंचने लगे थे।

Loading...

वही रतलाम, नीमच, मंदसौर जिले में दो दिन से जारी भारी बारिश से नदी और नाले उफान पर आ गए हैं। 24 घंटे में रतलाम जिले में 3.07 इंच, मंदसौर जिले में 5 तथा नीमच जिले में साढ़े 3 इंच बारिश हुई है। मंदसौर के मल्हारगढ़ तहसील में गाडगिल सागर भरने से इसके 7 गेट और उसके बाद रेतम बैराज के 14 गेट खोलना पड़ गया। इससे नीमच जिले की मनासा व जीरन तहसील के गई गांवों में बाढ़ जैसे हालत बन गए।

loading...

दो गांवों की सड़के बह गईं हैं। मनासा तहसील में 7 घंटे में सवा 3 इंच बारिश से हालात और बिगड़ गए। नीमच के नलवा गांव की अरनिया नई आबादी में पांच फीट पानी भर गया। इससे 24 परिवार को बुधवार सुबह 5 बजे से छत पर बैठकर बरसते पानी में 5 घंटे गुजारना पड़ा जिन्हे पानी उतरने पर सुरक्षित बाहर निकाला गया।

शाजापुर जिले के किठोर गांव में बारिश के बाद उफान पर आए नाले को बाइक से पार करते समय खेड़ावद निवासी जसमत सिंह मालवीय (30) गिरकर घायल हो गया। पानी के बहाव में वह नाले में जा गिरा और डूबने से उसकी मौत हो गई। बताया जा रहा है कि तीनों दोस्त उज्जैन से ही बाइक से अपने गांव खेड़ावद जा रहे थे।
Loading...
loading...