Wednesday , September 19 2018
Loading...

खुद को सीएम का जीजा बताकर सिपाही को हड़काया

चुनाव के मद्देनजर ट्रैफिक पुलिस शहर के अलग-अलग हिस्सों में चैकिंग कर रही है। इसी दौरान एक शख्स की गाड़ी रोके जाने पर उसने सीएम शिवराज सिंह चौहान के नाम पर पुलिस से बदसलूकी की। दरअसल ट्रैफिक पुलिस के सिपाही ने एमपी 17 बी 8040 नंबर की स्कॉर्पियो गाड़ी को हाथ देकर रोका। इस पर ड्राइविंग सीट के बगल में बैठे व्यक्ति ने कहा- सीएम मेरे साले हैं। सिपाही ने कहा कि ये बात आप गाड़ी से उतरकर साहब को बता दो। इससे नाराज व्यक्ति ने गाड़ी से उतरते ही सिपाही का हाथ पकड़ लिया और साथ बैठी महिला से कहा- निकाल जरा चप्पल। यह देख चैकिंग कर रहा पूरा स्टाफ वहां आ गया और बहस शुरू हो गई। घटनाक्रम करीब आधे घंटे चला।

इसी दौरान मौके पर मौजूद एक पत्रकार ने फोन कर एएसपी ट्रैफिक अरविंद दुबे को पूरा वाकया बताया। वे बोले- मैं डीएसपी को भेजता हूं। डीएसपी मधुकर चौकीकर मौके पर पहुंचे तब भी बहस जारी थी। डीएसपी ने दोनों पक्षों को समझाया और बगैर कोई कार्रवाई करवाए मामला रफा-दफा किया। बता दें कि गाड़ी राजेंद्र सिंह चौहान के नाम से रजिस्टर्ड बताई जा रही है। इसके बाद अब आरोपी शख्स को पुलिस ने 3,000 रुपए का चालान भेज दिया है।

Loading...

वहीं इस मसले पर सवाल करने के लिए एएसपी ट्रैफिक ने फोन तक रिसीव नहीं किया। डीआईजी धर्मेंद्र चौधरी का कहना है कि एसपी हेडक्वार्टर धर्मवीर यादव को जांच के निर्देश दिए हैं। इसके बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। वहीं जब इस मामले में सीएम शिवराज सिंह से बात की गई तो पहले तो वो सवाल से बचते नजर आए फिर एक लाइन में जवाब देते हुए कहा कि मध्यप्रदेश की सभी महिलाएं मेरी बहन हैं, मैं तो सबका साला हूं।

loading...

डीआईजी के मुताबिक थाना पुलिस और ट्रैफिक पुलिस ने मिलकर शहर के करीब 25 स्थानों पर चैकिंग प्वाइंट लगाया था। इस दौरान कुल 128 वाहनों पर लगे हूटर निकाले गए हैं। 8 वाहन चालकों के खिलाफ चालानी कार्रवाई कर 12 हजार समन शुल्क वसूला गया। ये अभियान आगे भी जारी रहेगा। चूंकि मोटर व्हीकल एक्ट की धारा 185/4 के तहत वाहनों में हूटर लगाना प्रतिबंधित है। ऐसा किए जाने पर 3 हजार रुपए का जुर्माना तथा हूटर जब्ती का प्रावधान है।

Loading...
loading...