Monday , February 18 2019
Loading...

8 लाख करोड़ के मार्केट कैप वाली पहली कंपनी बनी रिलायंस

टेलिकॉम कंपनी जियो के चलते मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज का जलवा शेयर बाजार में एक बार फिर से कायम हो गया है। गुरुवार को कंपनी का मार्केट कैप 8 लाख करोड़ रुपये के पार हो गया। ऐसा करने वाली यह पहली कंपनी बन गई है। इससे पहले टाटा कंसल्टेंसी सर्विस का सबसे ज्यादा मार्केट कैप था।

जियो ने लगाए चार-चांद
कंपनी की इस उपलब्धि में सबसे बड़ा योगदान रिलायंस जियो का है। दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक जियो की ग्राहक संख्या में बढ़ोतरी दर्ज की गई है। इसके साथ ही कंपनी ने 15 अगस्त को अपनी ब्रॉडबैंड सर्विस गीगाफाइबर और जियो फोन2 को भी लांच किया था। इसकी वजह से कंपनी ने कई आकर्षक ऑफर भी शुरू किए हुए हैं, जिससे ग्राहक संख्या काफी बढ़ने की उम्मीद है।

इतना बढ़ा शेयर का दाम
गुरुवार को कंपनी के शेयर का दाम 1.5 फीसदी की बढ़त के साथ 1265 रुपये हो गया, जिससे मार्केट कैप 8.02 लाख करोड़ के पार चली गई। इससे पहले 13 जुलाई को रिलायंस की मार्केट कैप 7 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा हो गई थी, जिसके साथ ही वह टीसीएस के बाद देश की दूसरी बड़ी कंपनी बन गई थी।

इसलिए बढ़ गया रिलायंस का शेयर
5 जुलाई को रिलायंस इंडस्ट्रीज की एजीएम थी, जिसमें कंपनी ने अपनी भविष्य की योजनाओं के बारे में बताया था। आरआईएल का शेयर उस वक्त 965 रुपये था, जिससे मार्केट कैप 1174 करोड़ रुपये हो गया था। ऐसा इसलिए क्योंकि निवेशकों का विश्वास इस एजीएम के बाद काफी बढ़ गया है।

सेंसेक्स की शीर्ष 10 कंपनियों में से पांच का बाजार पूंजीकरण (मार्केट कैप) पिछले सप्ताह 77,784.85 करोड़ रुपये बढ़ गया। रिलायंस इंडस्ट्रीज इनमें सबसे अधिक लाभ में रहने वाली कंपनी रही।
शीर्ष कंपनियों में लाभ में रहने पाली कंपनियों में टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज, रिलायंस इंडस्ट्रीज, हिंदुस्तान यूनिलीवर, आईटीसी और भारतीय स्टेट बैंक रहीं। जबकि एचडीएफसी बैंक, एचडीएफसी, इन्फोसिस, मारुति सुजुकी इंडिया और कोटक महिंद्रा बैंक को नुकसान उठाना पड़ा।

loading...