X
    Categories: क्राइम

न्यूज चैनल का प्रेसीडेंट बताकर ठगी करने वाली ‘बबली’ गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने ठगी करने वाली एक हाईप्रोफाइल महिला को गिरफ्तार किया है। महिला एक विदेशी अंग्रेजी मीडिया हाउस की वाइस प्रेसीडेंट बनकर व्यवसायियों से ठगी करती थी। कई बार वह पीड़ितों को नेताओं व नौकरशाहों से अच्छी जान-पहचान होने का हवाला भी देती थी। महिला दिल्ली, मध्य प्रदेश व मुंबई में कई व्यवसायीयों से ठगी कर चुकी है। दिल्ली व भोपाल पुलिस ठगी के तीन मामलों में उसे तलाश रही थी। आरोपी महिला ने बीटेक की पढ़ाई अंतिम वर्ष में छोड़ दी थी।

अपराध शाखा के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त राजीव रंजन के अनुसार रवि पटेल लाजपत नगर में ट्रैवल एजेंसी का व्यवसाय करता है। उसने पायल सैमुअल (32) नाम की महिला के खिलाफ टिकट खरीदने के नाम पर 30 लाख रुपये ठगने की शिकायत दी थी। पायल ने करीब 30 लाख रुपये के डोमेस्टिक व इंटरनेशलन एयर टिकट खरीदे थे और यूएस डॉलर भी लिए थे।

महिला ने उसे अंग्रेजी न्यूज चैनल का वाइस प्रेसीडेंट बताया था और रवि पटेल को करोड़ों रुपये का बिजनेस दिलवाने की बात कही थी। जब रवि ने अपने पैसे मांगे तो पायल ने इनकार कर दिया। रवि ने जब इंटरनेट से चैक किया तो पता लगा कि अंग्रेजी मीडिया हाउस का वाइस प्रेसीडेंट कोई और है।

Loading...

अपराध शाखा ने 21 अप्रैल को मामला दर्जकर इंस्पेक्टर रमेश लांबा की टीम ने जांच शुरू की। जांच में पता लगा कि महिला के खिलाफ ठगी का एक मामला भोपाल में दर्ज है। पायल ने वर्ष 2012 में व्यवसायी चंदर वाधबानी के साथ ठगी की थी। आखिरकार पुलिस ने सर्विलांस के जरिए महिला को 15 अगस्त को मुंबई से गिरफ्तार कर लिया था।

loading...

पूछताछ में पुलिस को पता लगा कि वह खुद को फर्मों की सीनियर एग्जीक्यूटिव बताती थीं। वह नेताओं व नौकरशाहों से भी जान-पहचान का हवाला देती थी। व्यवसायियों को अच्छी जान-पहचान होने के कारण करोड़ों का व्यवसाय दिलाने की बात कहती थी।

बीटेक की पढ़ाई बीच में ही छोड़ी

पायल शादीशुदा है और उसका बेटा आठवीं कक्षा में पढ़ता है। पिता भेल से सीनियर पद से रिटायर हैं और मां भोपाल में लैब टेक्रीशियन थी। उसने बीटेक के लिए मौलाना आजाद कॉलेज ऑफ टेक्रोलॉजी, भोपाल में दाखिल लिया, मगर अंतिम वर्ष में पढ़ाई छोड़ दी थी। पायल ने वर्ष 2007 से लेकर 2012 तक कुछ मीडिया हाउस में नौकरी की थी। अमीर बनने के लिए उसने ठगी करना शुरू कर दिया था। उसने भोपाल के व्यवसायी से ऑयल केन्स खरीदी थीं और चैक दिया था। चैक बाउंस हो गया था। इस मामले में गिरफ्तार भी हुई थी और तीन महीने जेल में रही।

भोपाल के ही अजय अग्रवाल नामक व्यवसायी से सोने के 14 सिक्के खरीदने के नाम पर चार लाख 70 हजार रुपये की ठगी की थी। इस मामले में चैक बाउंस हो गया था। फरवरी, 2018 में भापोल के एक अन्य व्यवसायी धीरज जैन से 21 लाख रुपये की ठगी की थी। जैन से 21 लाख के मोबाइल खरीद लिए थे और लेकिन चैक बांउस हो गया था।

Loading...
News Room :

Comments are closed.