Monday , September 24 2018
Loading...
Breaking News

इस सहयोगी दल ने बढाई बीजेपी की मुश्किलें, अब क्या करेंगे मोदी और शाह

साल 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले केंद्र की सत्ता में काबिज भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की मुश्किलें खासी बढ़ सकती है। इसकी वजह यह है कि पंजाब में भाजपा की सहयोगी पार्टी अब दूसरे राज्यो में भी चुनाव लड़ने की योजना बना रही है। पंजाब के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल ने बीते सोमवार (20 अगस्त, 2018) को कहा कि उनकी पार्टी शिरोमणि अकाली दल (SAD) उत्तर प्रदेश और राजस्थान में राजनीतिक आधार दर्ज कराने की तैयार कर रही है। पूर्व उप मुख्यमंत्री ने आगे कहा, ‘हरियाणा के बाद हमारी पार्टी उत्तर प्रदेश और राजस्थान में चुनावी राजनीति में प्रवेश करने की योजना बना रही है।’ ये जानकारी न्यूज एजेंसी पीटीआई के हवाले से है।

बीते रविवार को SAD अध्यक्ष ने हरियाणा की पिपली नगर में अनाज बाजार में पार्टी की पहली प्रमुख रैली को संबोधित करते हुए कहा था, ‘हमने पंजाब में वादा किया और पूरा किया। अब हम हरियाणा के लोगों के कल्याण के लिए काम करने की जिम्मेदारी लेने को तैयार हैं।’ उन्होंने पंजाबियों से अपील की कि वे हरियाणा में एक नया इतिहास लिखने के लिए SAD के झंडे तले एकत्रित हों। उन्होंने कहा कि एक बार आप SAD के तहत एकजुट हो गए तो आपको सत्ता प्राप्त करने से कोई रोक नहीं सकता।

Loading...

बादल ने कहा कि यदि शिअद राज्य में सत्ता में आई तो वह कृषि क्षेत्र के लिए मुफ्त बिजली की नीति लागू करेगी। उन्होंने सभी खेतों के लिए मुफ्त पाइप सिंचाई पानी, दलितों के लिए प्रति महीने 400 यूनिट मुफ्त बिजली के अलावा समाज के सभी वर्गों के लिए विभिन्न सुविधाओं की घोषणा की।

loading...

बता दें कि 17वीं लोकसभा के गठन के लिए अगले साल अप्रैल से मई के बीच चुनाव होने की उम्मीद है। अकाली नेता ने इसके अलावा पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को भी श्रद्धांजलि दी। वाजपेयी का हाल के दिनों में लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया था। सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि जाति और धर्म के नाम पर वाजपेयी ने कभी भेदभाव नहीं किया। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री पंजाब और पंजाबियों के सच्चे दोस्त थे।

Loading...
loading...