Thursday , September 20 2018
Loading...
Breaking News

विपक्षी एकता को एक और झटका, जाने क्या है माजरा

लोकसभा चुनाव से पहले ही विपक्षी एकता के दावे की पोल खुल रही है। पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान किया वहीं अब के चंद्रशेखर राव की पार्टी टीआरएस ने साफ तौर पर कह दिया है वो 2019 में किसी पार्टी से गठबंधन नहीं करेगी। तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव का कहना है कि उनकी पार्टी टीआरएस का 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए किसी भी पार्टी के साथ कोई गठबंधन नहीं करेगी। सोमवार को उन्होंने कहा कि चुनाव के लिए उम्मीदवारों की घोषणा अगले महीने की जाएगी। उन्होंने कहा, ‘टीआरएस कभी भी चुनावों का सामना करने के लिए तैयार है। हम आम चुनाव के लिए पार्टी के उम्मीदवारों के नामों की घोषणा खुद अगले महीने कर देंगे और हमारा किसी पार्टी के साथ कोई गठबंधन में नहीं है।’

चंद्रशेखर राव पहले फेडरल फ्रंट की वकालत कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि वह इसके निर्माण के लिए उड़ीसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के साथ बात करेंगे। उन्होंने कहा, ‘एक गैर-भाजपा, गैर-कांग्रेस वाले फेडरल फ्रंट को बनाने में थोड़ा समय लगेगा। लेकिन यह हकीकत होगा। यह एक दिन जरूर बनेगा। मुझे कोई जल्दी नहीं है।’ एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा टीआरएस ने एनडीए के राज्यसभा के उपसभापति उम्मीदवार के पक्ष में वोट दिया था क्योंकि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उन्हें फोन करके मदद मांगी थी।

राज्य की कार्यकारिणी बैठक में राव ने कहा कि पार्टी 2 सितंबर को सार्वजनिक बैठक का आयोजन करेगी और लोगों के सामने तेलंगाना की प्रगति रिपोर्ट पेश करेगी। उन्होंने कहा टीआरएस ने 9 प्रस्ताव पास किए हैं। जिसमें राज्य विधानसभा द्वारा पारित आरक्षण बिल को केंद्र से स्वीकार करने का अनुरोध शामिल है। राज्य विधानसभा ने 16 अगस्त को एक प्रस्ताव पास किया था जिसमें सभी शैक्षणिक संस्थानों और सरकारी नौकरियां में सामाजिक और आर्थिक तौर पर पिछड़े मुस्लिमों को 12 प्रतिशत का कोटा दिया जाएगा।

Loading...

आम चुनाव के समय से पहले होने पर सीधा जवाब ना देते हुए राव ने कहा चुनाव आयोग के पास यह अधिकार है कि वह इसे मूल अनुसूची से 6 महीने पहले करवा सकता है। उन्होने दावा किया कि पार्टी ने जो सर्वे किए हैं उनके आधार पर टीआरएस विधानसभा चुनाव में 100 से ज्यादा सीटें जीतेगी। राव ने कहा कि तेलंगाना में बसने वाले सभी लोगों को यहां का नागरिक माना जाएगा। उन्होंने 10 अगस्त को ओसमानिया यूनिवर्सिटी के कैंपस में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को छात्रों से मिलने ना देने के पीछे सरकार का हाथ होने से इंकार कर दिया। मुख्यमंत्री ने कहा सरकार हैदराबाद को वैश्विक शहर बनाने के लिए 50,000 करोड़ रुपए खर्च करने की योजना बना रही है।

loading...
Loading...
loading...