Wednesday , September 26 2018
Loading...
Breaking News

जेल में बंद ब्रजेश ठाकुर के पास से मिला कुछ ऐसा जिसने सबकी उड़ाई नींद

मुजफ्फरपुर रेप कांड  की जड़ें आखिर कितनी गहरी हैं. पहले तो इस मामले में राज्य सरकार पूरी तरह के चुप्पी साधे रही और जब विपक्ष के दबाव में शेल्टर चलाने वाले और इस कांड के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर  को जेल भेजा गया तो वहां भी उसकी मदद जमकर की जा रही है. बिहार में 15 अगस्त के मौके पर जेलों में छापे मारे जाते हैं. शनिवार को जब यह कार्रवाई की गई तो मुजफ्फरपुर जिला जेल में बंद ब्रजेश ठाकुर को लेकर जो खुलासा हुआ वह चौंकाने वाला था. जिस कांड की गूंज संसद से लेकर पूरे देश में सुनी गई उसका आरोपी जेल में मुलाक़ातियों से मिलने वाले एरिया में आराम से टहलते पाया गया. इतना ही नहीं उसके पास से कई काग़जात जिसमें दो पन्नों में क़रीब चालीस लोगों के नाम और मोबाइल नंबर मिले. इसमें कई प्रभावी लोगों के नाम शामिल हैं जिसमें एक मंत्री जी के नाम के आगे एक मोबाइल नंबर लिखा था. सवाल इस बात का है कि क्या जेल में बंद ब्रजेश ठाकुर की मदद कुछ रसूखदार लोग कर रहे हैं और मोबाइल नंबर होने की मतलब है कि क्या वह जेल के अंदर से ही इन लोगों से बातचीत भी कर रहा है. हालांकि सभी काग़जात ज़ब्त कर सील कर दिए गए हैं. लेकिन इस छापेमारी के बाद प्रशासन ब्रजेश ठाकुर की बीमारी को बहाना मान रहा है. उम्मीद की जा रही है कि अब मेडिकल बोर्ड का गठन कर उन्हें वार्ड में शिफ़्ट किया जा सकता है. इसके अलावा कुछ और काग़जात मिले हैं जिससे लग रहा है कि वो अपने वकीलों के साथ बैठ कर कैसे लोगों को फंसाना है, इसकी रणनीति बना रहे हैं.

Image result for जेल में बंद ब्रजेश ठाकुर के पास से मिली लिस्ट में मंत्री जी का भी नाम

एक जिला पुलिस अधिकारी ने कहा कि मुजफ्फरपुर कोर्ट में मामले के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर से पूछताछ करने के लिए उसे रिमांड पर लिए जाने का आवेदन करने से पहले टीम ने सीलबंद कमरे खोले और तलाशी ली. अधिकारी ने कहा, “टीमों ने सील किए गए कमरे खोले और मामले में और सबूत इकट्ठा करने के लिए तलाशी ली. टीमों द्वारा की गई सभी जांच गतिविधियों को रिकॉर्ड करने के लिए वीडियोग्राफी की गई.” ठाकुर को नौ अन्य लोगों के साथ गिरफ्तार करने के बाद बालिका गृह को जिला प्रशासन द्वारा सील कर दिया गया था. ठाकुर ने मुजफ्फरपुर केंद्रीय कारागार में केवल पांच दिन बिताए हैं. इस मामले में उसे दो जून को गिरफ्तार किया गया था. पुलिस ने कहा, “वह स्वास्थ्य आधार पर जेल के मेडिकल वार्ड में रह रहा है और कैदियों के वार्ड में रहने से बचने में कामयाब रहा.” पटना उच्च न्यायालय इस मामले में चल रही सीबीआई जांच पर नजर बनाए हुए है.

Loading...

आपको बता दें सीबीआई ने ब्रजेश ठाकुर के बेटे को भी हिरासत में लिया था जिसे आज सुबह लंबी पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया है. गौरतलब है कि मुजफ्फरपुर के बालिका आश्रय में रहने वाली कई लड़कियों ने रेप का आरोप लगाया और साथ में यह भी कहा कि उनको बाहर भी भेजा जाता था.

loading...
Loading...
loading...