X
    Categories: राजनीति

उपचुनाव में फिर होगी कड़ी परीक्षा

कैराना लोकसभा सीट के उपचुनाव के बाद अब जिला पंचायत सदस्य वार्ड 10 के उपचुनाव में फिर से भाजपा और विपक्षी दल आमने सामने होंगे। चुनाव को लेकर जोर दोनों ओर से लगाया जा रहा है। एक तरफ भाजपा नेता इस वार्ड पर अपना प्रत्याशी तय करने में लगे हुए हैं, तो दूसरी तरफ रालोद सांसद तबस्सुम हसन की बेटी इकरा चौधरी ने नामांकन पत्र खरीद लिया है।
गौरतलब है कि जिला पंचायत सदस्य वार्ड 10 से तबस्सुम हसन जिला पंचायत सदस्य थीं, जो दो महीना पूर्व ही कैराना लोकसभा सीट के उपचुनाव में रालोद के टिकट पर चुनाव लड़ीं और भाजपा प्रत्याशी मृगांका सिंह को हराकर सांसद चुनी गईं। इसके बाद जिला पंचायत सदस्य पद रिक्त हुआ, जिसके लिए उपचुनाव होना है।

जिला पंचायत सदस्य वार्ड 10 की कुर्सी पर अपना कब्जा जमाने के लिए सांसद तबस्सुम हसन का खेमा सक्रिय हो गया है। यही वजह है कि तबस्सुम की बेटी इकरा चौधरी ने सोमवार को इस वार्ड से चुनाव लड़ने के लिए नामांकन पत्र खरीद लिया है।
इससे इतना तो स्पष्ट है कि जिला पंचायत सदस्य वार्ड 10 से इकरा चौधरी का चुनाव लड़ेंगी। उधर, भाजपा नेता भी जिला पंचायत सदस्य के उपचुनाव में अपने समर्थन वाले प्रत्याशी को जिताने के पुरजोर प्रयास में लगे हुए हैं। दो दिन पूर्व ही कैराना में मायापुर फार्म हाउस पर भाजपा नेता मृगांका सिंह की मौजूदगी में प्रत्याशी के चयन को लेकर मंथन हुआ था। कई नामों के प्रस्ताव रखे गए थे, जिनमें से एक नाम तय किया जाना है। भाजपा के जिला पंचायत सदस्य अनुज चौहान ने बताया कि उपचुनाव के लिए रात तक नाम फाइनल हो जाएगा, मंगलवार या बुधवार को नामांकन पत्र दाखिल कराया जा सकता है।

हसन परिवार के विरोधी पर दांव खेल सकती है भाजपा
जिला पंचायत सदस्य का उपचुनाव वैसे तो पार्टी सिंबल पर नहीं होगा, लेकिन भाजपा का प्रयास रहेगा कि इस सीट को जीतकर अपनी झोली में डाला जाए। यह वार्ड मुस्लिम बहुल है, जिसके चलते भाजपा नेता भी इस प्रयास में लगे हैं कि हसन परिवार के विरोधी को समर्थन देकर चुनाव लड़ाया जाए। ऐसे कई नाम सामने आ रहे हैं, जो क्षेत्र में सक्रिय  राजनीति करते हैं और हसन परिवार के विरोधी हैं।

Loading...
Loading...
News Room :

Comments are closed.