Saturday , February 16 2019
Loading...

एक साल बाद भी मृत्यु प्रमाण पत्र के इंतजार में भटक रहा परिवार

29 जून 2017 को अलीमुद्दीन उर्फ असगर अंसारी को झारखंड के रामगढ़ जिले में एक भीड़ ने पीट-पीटकर मार दिया था। उनपर बीफ ले जाने के शक में हमला किया गया था। इस घटना को एक साल से ज्यादा का समय बीत चुका है लेकिन उनके परिवार को आज तक मृत्यु प्रमाण पत्र नहीं मिला है। वह हर दरवाजे पर जाकर प्रमाण पत्र पाने की कोशिश कर रहे हैं।

Image result for एक साल बाद भी मृत्यु प्रमाण

पुलिस अब तक वह रिपोर्ट जमा नहीं करवा पाई है जिससे उसकी मौत के स्थल का पता चल सके। इसी वजह से परिवार मृत्यु प्रमाणपत्र को पाने के लिए संघर्ष कर रहा है। अलीमुद्दीन के बेटे शहजाद अंसारी ने बताया, ‘हम लगातार पुलिस स्टेशन, उप-मंडल अधिकारी के कार्यालय, उप-कमिश्नर के कार्यालय और रांची के राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसिंज में भागदौड़ कर रहे हैं। मेरे पिता ने कुछ बीमा योजनाए की हुई थीं। हमें बहन की शादी के लिए पैसों की जरुरत है लेकिन हम बीमा के पैसों पर दावा तभी कर सकते हैं जब हमारे पास मृत्यु प्रमाण पत्र आ जाएगा।’

अलीमुद्दीन का मामला पहला ऐसा था जिसमें फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 12 में से 11 आरोपियों को दोषी पाया था और उन्हें आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। हालांकि इस साल जून में 9 आरोपियों को झारखंड हाईकोर्ट से जमानत मिल गई थी। जमानत मिलने के बाद आरोपी केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा से मिलने के लिए उनके आवास पर गए थे और मंत्री ने माला पहनाकर उनका स्वागत किया था। जिसकी वजह से विपक्ष ने उनपर निशाना साधा था। इसके बाद उन्हें दो बार सफाई देनी पड़ी थी।

loading...