X
    Categories: राष्ट्रीय

राहुल गांधी ने आखिर क्यों थपथपाई गडकरी की पीठ

बढ़ती बेरोजगारी, एससीएसटी एक्ट  मराठा आरक्षण पर बार-बार घेरी जा रही बीजेपी की मुश्किलें केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के रविवार को दिए बयान के बाद  बढ़ने जा रही है. बढ़ती बेरोजगारी मराठा आरक्षण  आक्रोश रैली के बाद कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने गडकरी के बयान को सीधा कैच कर लिया है. राहुल गांधी ने ट्वीट कर बोला है कि गडकरी जी ने बिलकुल सही सवाल किया है.यही हर इंडियन गवर्नमेंट से पूछ रहा है कि आखिर नौकरियां बोला हैं?

रविवार को नितिन गडकरी ने बोला था कि नौकरियां हैं कहां कि आरक्षण दें, उन्होंने यह भी बोला था कि सरकारी नौकरियों की भर्ती पर रोक लगी हुई है.

गडकरी के नौकरियों वाले बयान पर बीजेपी पूरी तरह से घिरती नजर आ रही है. एक प्रोग्राम में उन्होंने बोला कि यदि आरक्षण दे दिया जाता है तो भी लाभ नहीं है, क्योंकि नौकरियां नहीं हैं. बैंक में आईटी के कारण नौकरियां कम हुई हैं.  सरकारी भर्ती रुकी हुई हैं.  नौकरियां कहां हैं? नितिन गडकरी ने आर्थिक आधार पर आरक्षण की तरफ संकेत करते हुए बोला कि एक ‘सोच’ है जो चाहती है कि नीति निर्माता हर समुदाय के गरीबों पर विचार करें.

Loading...

उन्होंने बोला था एक सोच कहती है कि गरीब- गरीब होता है, उसकी कोई जाति, पंथ या भाषा नहीं होती.  उसका कोई भी धर्म हो, मुस्लिम, हिंदू या मराठा सभी समुदायों में एक धड़ा है जिसके पास पहनने के लिए कपड़े नहीं है, खाने के लिए भोजन नहीं है.

loading...

कल ही बयान के बाद गडकरी ने इस पर सफाई भी दी थी उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि मुझे कुछ खबरें देखने को मिलीं जिसमें मेरे बयान को गलत तरीके से पेश किया गया. लेकिन मैं साफ करना चाहता हूं कि आरक्षण में परिवर्तन को लेकर गवर्नमेंट की कोई योजना नहीं है.

पिछले कुछ दिनों से महाराष्ट्र में 16 फीसदी आरक्षण की मांग को लेकर मराठा समुदायों का पुणे, नासिक,औरंगाबाद में आंदोलन जारी है. इस आंदोलन के आवेश में आकर कई युवाओं ने जहां आत्महत्या कर ली है वहीं हिंसा की खबरे भी हैं.

Loading...
News Room :

Comments are closed.