Sunday , September 23 2018
Loading...
Breaking News

मानसून में तेजी से गिरफ्त में ले रहीं ये बीमारी

बारिश के बाद वायुमंडल में भारी आर्द्रता के कारण इन दिनों बीमारियों का प्रकोप बढ़ गया है। भारी नमी के कारण जहां शरीर के जोड़ों में तकलीफ बढ़ी है वहीं भारीपन, सिर दर्द और माइग्रेन जैसी बीमारियां भी लोगों को परेशान कर रही हैं। रही सही कसर वायरल ने पूरी कर दी है।
Image result for मानसून में तेजी से गिरफ्त में ले रहीं ये बीमारी

वायरल की चपेट में आकर बड़ी संख्या में बच्चे, बुजुर्ग और महिलाएं खासी, जुकाम, बुखार से पीड़ित हैं। आलम यह है कि कोरोनेशन और दून जैसे सरकारी अस्पतालों के अलावा निजी अस्पतालों में भी मरीजों की भीड़ लगी है। हालांकि, विशेषज्ञों की मानें तो बारिश के मौसम में कुछ एहतियात बरतकर इन बीमारियों से बचा जा सकता है।

वातावरण में नमी बढ़ने से मांसपेशियों और शरीर दर्द की शिकायतें तेजी से बढ़ी हैं। कोरोनेशन अस्पताल के हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. एसएन सिंह के मुताबिक ,वातावरण में आर्र्दता अधिक होने से शरीर में नमक की मात्रा कम हो जाती है, जिससे शरीर में ‘इलेक्ट्रोलाइट्स’ असंतुलित हो जाता है।

Loading...

मेडिकल साइंस में इसे ‘ह्यूमिड क्रैंप’ भी कहते हैं

ऐसी स्थिति में मांसपेशियों में खिंचाव होता है और दर्द शुरू हो जाता है। मेडिकल साइंस में इसे ‘ह्यूमिड क्रैंप’ भी कहते हैं। इसके अलावा जो लोग पहले ही गठिया, स्पॉडिलाइटिस या कमर दर्द की परेशानी से जूझ रहे हैं, उनकी मुसीबतें और बढ़ गई है।

डॉ. सिंह का कहना है कि अस्पताल की ओपीडी में बड़ी तादात में मरीज गठिया, कमर दर्द, मांसपेशियों में दर्द की शिकायत लेकर आ रहे हैं। मरीजों को दवा के साथ ही सर्दी और गर्मी से बचाव की सलाह दी जा रही है।

loading...

मौसम के इस बदलाव से वायरल का खतरा तेजी से बढ़ा है। कोरोनेशन अस्पताल के सीएमएस डॉ. एलसी पुनेठा के मुताबिक, अस्पताल के ओपीडी में वायरल से पीड़ित भारी संख्या में पहुंच रहे हैं। ज्यादातर मरीजों को सर्दी, जुकाम, खांसी या वायरल बुखार है। बच्चों, महिलाओं और बुजुर्गों पर वायरल का असर ज्यादा दिखाई दे रहा है।

बीमारियों से करें बचाव

डायरिया और पीलिया से बचने को पानी उबालकर पीएं

खुले में बिक रहे खानेपीने की चीजों का इस्तेमाल न करें

बारिश में भीगने से बचें और आसपास पानी न जमा होने दें
कूलर आदि का पानी निकाल दें, सुबह-शाम पूरी आस्तीन का कपड़ा पहनें
मलेरिया से बचने के लिए नालियों में फिनायल या जला मोबिल आयल डालें
बासी भोजन से परहेज करें, कुछ होने पर तत्काल विशेषज्ञ से संपर्क करें
Loading...
loading...