X
    Categories: राजनीतिराष्ट्रीय

लोकसभा में सवाल पूछने के नाम पर हड़बड़ाए अभिषेक बनर्जी

एक ओर एनआरसी के मुद्दे पर तृणमूल कांग्रेस पार्टी नेता ममता बनर्जी जहां केंद्र गवर्नमेंट के विरूद्ध हमलावर रुख अपनाए हुए हैं, वहीं दूसरी तरफ उनके भतीजे अभिषेक बनर्जी को मंगलवार को लोकसभा में उस वक्‍त विकट स्थिति का सामना करना पड़ा जब वह सदन में अच्छा से बोल नहीं पाए दरअसल मामला लोकसभा के प्रश्‍नकाल का है अभिषेक बनर्जी  टीआरएस सदस्‍य के कविता को ‘तारांकित’ प्रश्‍न पूछना था इसका जवाब मौखिक रूप से ही दिया जाता है लेकिन कविता सदन में उपस्थित नहीं थी, लिहाजा स्‍पीकर सुमित्रा महाजन ने अभिषेक मुखर्जी का नाम सवाल पूछने के लिए पुकारा

इस पर अभिषेक बनर्जी एकदम से हड़बड़ा गए क्‍योंकि द टाइम्‍स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक वह प्रश्‍न पूछने के लिए तैयार नहीं थे  आकस्मित नाम बुलाए जाने से हड़बड़ा गए कई बार उनसे सवाल पूछने के लिए आग्रह किया गया लेकिन तब भी वह तैयार नहीं दिखे आखिरकार स्‍पीकर ने बोला कि आपके सवाल का टाइम आ गया है लेकिन यदि आप उसे भूल गए हैं तो छोड़ दीजिए इस बीच तृणमूल के अन्‍य वरिष्‍ठ नेता सुगाता बोस  सौगत रॉय उनके बचाव में आए उन्‍होंने सवाल पूछने में अभिषेक बनर्जी की मदद की  मंत्री द्वारा जवाब देने के बाद पूरक प्रश्‍न पूछने के लिए भी गाइड किया इस पूरे घटनाक्रम के दौरान सत्‍ता पक्ष के लोग हंस पड़े

Loading...

एनआरसी पर सियासत गर्म
इस बीच पश्चिम बंगाल की CM ममता बनर्जी ने चेतावनी दी कि असम में तैयार किए गए राष्ट्रीय नागरिक रजिस्‍टर (एनआरसी) के अंतिम मसौदे में 40 लाख लोगों को शामिल नहीं किए जाने से राष्ट्र मेंहो सकता है बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने ममता के इस बयान को सिरे से खारिज कर दिया ममता ने मोदी गवर्नमेंट पर आरोप लगाया कि वह राजनीतिक फायदे के लिए असम में लाखों लोगों को ‘राज्यविहीन’ करने की प्रयास कर रही है बहरहाल, अमित शाह ने ममता के आरोपों को खारिज करते हुए असम के एनआरसी को राष्ट्रीय सुरक्षा  हिंदुस्तानियों के अधिकारों से जुड़े मुद्दे के तौर पर पेश किया  सभी विपक्षी पार्टियों से साफ करने को बोला कि वे एनआरसी का समर्थन करती हैं या नहीं

loading...

ममता  कई विपक्षी पार्टियों ने मोदी गवर्नमेंट पर यह हमला तब कहा है जब एक दिन पहले ही प्रकाशित किए गए एनआरसी के अंतिम मसौदे में 40 लाख से ज्यादा लोगों के नाम शामिल नहीं किए गए असम में रह रहे गैरकानूनी बांग्लादेशियों की पहचान के लिए एनआरसी तैयार करने की कवायद पिछले कई वर्ष से चल रही है पश्चिम बंगाल की CM ने यहां एक सम्मेलन में कहा, ‘‘राजनीतिक मंशा से एनआरसी तैयार किया जा रहा है हम ऐसा होने नहीं देंगे वे (भाजपा) लोगों को बांटने की प्रयास कर रहे हैं इस दशा को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता राष्ट्र में गृह युद्ध, खूनखराबा हो जाएगा ’’

अमित शाह ने दिया जवाब
इस मुद्दे पर मंगलवार को संसद में भी हंगामा हुआ कई राजनीतिक पार्टियों ने संसद के बाहर भी विरोध प्रदर्शन किया  भाजपा पर समाज को बांटने एवं इंडियन नागरिकों को अपने ही राष्ट्र में शरणार्थी बनाने की प्रयास करने के आरोप लगाए असम की राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के मुद्दे पर कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस पार्टी समेत कुछ विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने बोला कि एनआरसी का संबंध राष्ट्र की सुरक्षा  देशवासियों के मानवाधिकारों की रक्षा से जुड़ा है तथा कांग्रेस पार्टी समेत सभी राजनीतिक दलों को इस मुद्दे पर अपना रूख स्पष्ट करना चाहिए 

एनआरसी के मुद्दे पर जनता को भ्रमित करने का विपक्ष पर आरोप लगाते हुए शाह ने कहा, ‘‘ अलग अलग प्रकार की भ्रांतियां फैलायी जा रही हैं प्रांत-प्रांत के बीच झगड़े जैसा एक माहौल खड़ा करने का कोशिश किया जा रहा है मैं इसकी घोर निंदा करता हूं ’’ एक संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने बोलाकि बीजेपी के मन में बांग्लादेशी घुसपैठियों के विषय पर कोई दुविधा नहीं है  इसलिए हम नागरिकता विधेयक लेकर आए लोकसभा में यह पारित हो चुका है  राज्यसभा में लंबित है

भाजपा अध्यक्ष ने पार्टी मुख्यालय में संवाददाताओं से बोला कि हमारा पहले भी मत था कि बांग्लादेशी घुसपैठियों को राष्ट्र में रहने का कोई अधिकार नहीं है  अब भी मानते हैं कि एनआरसी को पूरी तरह से लागू किया जाना चाहिए उन्होंने कहा, ‘‘ बांग्लादेशी घुसपैठियों के विषय पर कांग्रेस पार्टी  उसके अध्यक्ष राहुल गांधी, तृणमूल कांग्रेस पार्टी समेत सभी दलों को अपना रूख स्पष्ट करना चाहिए उन्हें ‘हां’ या ‘नहीं’ में इस बारे में अपना रूख स्पष्ट करना चाहिए ’’

कांग्रेस की प्रतिक्रिया
कांग्रेस पार्टी ने भी बोला कि बीजेपी असम के एनआरसी मुद्दे पर पॉलिटिक्स कर रही है  शाह जानबूझकर मामले को ‘‘शरारत भरे अंदाज में मोड़ रहे हैं ’’ कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ प्रवक्ता आनंद शर्मा ने बोला कि बीजेपी  केंद्र गवर्नमेंट को राष्ट्रहित एवं एकता के इस मुद्दे पर जिम्मेदाराना बर्ताव करना चाहिए उन्होंने बोला कि कांग्रेस पार्टी एक बड़ी संख्या में हिंदुस्तानियों को अपने ही राष्ट्र में शरणार्थी की तरह छोड़ दिए जाने का मुद्दा उठा रही है  यह अस्वीकार्य है

Loading...
News Room :