Saturday , September 22 2018
Loading...
Breaking News

अधिक या कम वजन करता है गर्भधारण को प्रभावित

स्त्रियों के गर्भधारण को प्रभावित करने वाले कई कारणों में वजन भी एक जरूरी कारण है स्वास्थ्य, उम्र, बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई)  वजन के सही तालमेल से ही गर्भधारण पास होता है इंदिरा आईवीएफ हास्पिटल की आईवीएफ विशेषज्ञ डॉ आरिफा आदिल ने कहा, ‘गर्भधारण के समय वजन का बहुत ज्यादा महत्व होता है वजन की बात करते ही लोगों के दिमाग में सिर्फ मोटापे का ख्याल आता है फैट की चर्बी तो कई समस्याओं कारण है लेकिन यह महत्वपूर्ण नहीं हैं कि सिर्फ अधिक वजन से ही गर्भधारण प्रभावित हो, बल्कि कम वजन से भी गर्भधारण में कई प्रकार की समस्याएं आ सकती हैं’

Image result for अधिक या कम वजन करता है गर्भधारण को प्रभावित

डॉ आरिफा कहा, ‘कम वजन की महिलाओं में प्रीटर्म बर्थ का खतरा भी होता है प्रीटर्म न भी हो, तो भी बच्चे का वजन सामान्य से कम होता है जिससे बच्चे को भी कई परेशानियां हो सकती हैएनिमिया या कुछ अन्य प्रकार की समस्याएं भी हो सकती हैं इसलिए अगर महिलाएं गर्भधारण करने की इच्छुक हैं तो कोशिश करें कि वजन सामान्य रखें’ उन्होंने बोला कि गर्भधारण के समय आयु के अनुसार आदर्श वजन को इस फार्मूले से निकाला जा सकता है अगर आपकी लंबाई 155 सेमी है तो आपका वजन 55 किलो होना चाहिए इस प्रकार वजन को संतुलित रख कर समस्याओं से बचा जा सकता है

Loading...

डॉ आरिफा आदिल ने बोला कि मोटापा कई तरीके से गर्भधारण को प्रभावित कर सकता है मोटापे से ओव्यूलेशन प्रभावित होता है वजन बढ़ने से हार्मोन प्रभावित होते हैं, इससे ओव्यूलेशन प्रभावित होता है  गर्भधारण की आसार कम हो जाती हैं

loading...

पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम भी हो सकता है यह वह अवस्था है जब स्त्रियों में इंसुलिन का स्तर बढ़ता है इसके कारण ओव्यूलेशन का घटना अनियमित मासिक  टेस्टोस्टेरॉन हॉर्मोन में वृद्धि होती है पीड़ित महिला को कुछ किलो वजन घटा कर गर्भधारण का कोशिश करना चाहिए इससे बिना कोई दवा खाये ही समस्या को दूर किया जा सकता है वजन बढ़ने के कारण गर्भपात का खतरा भी बढ़ जाता है अत्यधिक वजन के कारण कई बार आईवीएफ ट्रीटमेंट में भी कठिनाई आती है

कम वजन का अर्थ है शरीर में फैट के फीसदी का कम होना ओव्यूलेशन  पीरियड्स के समय पर होने के लिए बॉडी फैट 22 फीसदी अवश्य होना चाहिए यदि बॉडी फैट लो होने के बावजूद पीरियड्स समय पर हो रहे हों तो भी गर्भधारण नहीं होने की संभावना होती है क्योंकि ऐसी स्थिति में ओव्यूलेशन प्रभावित होता है डॉ आरिफा आदिल ने कुछ ध्यान रखने योग्य बातों का जिक्र करते हुए कि 22 से 34 साल की आयु में गर्भावस्था को प्राथमिकता दें इस अवधि में गर्भधारण की क्षमता बेहतर मानी जाती है 18 से 25 साल तक अपने बीएमआई को मेंटेन रखे बीएमआई के कम या काफी होने पर मां बनने में खतरा हो सकता है नियमित व्यायाम करें  हेल्दी फूड लें इससे गर्भधारण की आसार बढ़ती है वजन अधिक हो तो फैट  चीनी युक्त भोजन कम से कम करेंजितना हो सके फल, हरी पत्तेदार सब्जियां  सलाद खाएं

Loading...
loading...