Saturday , September 22 2018
Loading...
Breaking News

हार्ट अटैक से बचने के लिए पहचाने ये लक्षण

 दिल रोग की बीमारी अब आयु दराज के साथ-साथ नौजवानों को तेजी से अपना शिकार बना रही है दिक्‍कत यह है कि लोगों का ध्‍यान इस बीमारी की तरफ उस वक्‍त जाता है, जब उनका दिल पूरी तरह से निर्बल हो चुका होता है ऐसी स्थिति में कई बार दिल रोग से पीड़ित मरीजों को हार्ट अटैक जैसी स्थित का समाना करना पड़ता है गनीमत है कि बेहतर होती स्‍वास्‍थ्‍य व्‍यवस्‍थाओं के चलते हार्ट अटैक का शिकार हुए बहुत सी जिंदगी को सफलता पूर्वक बचा लिया गया है, लेकिन ऐसे हमारे राष्ट्र में ऐसे लोगों की भी कमी नहीं है, जिनको हार्ट अटैक की वजह से अपनी जिंदगी से हाथ धोना पड़ा है

Image result for हार्ट अटैक से बचने के लिए पहचाने ये लक्षण

दिल्‍ली के इंद्रप्रस्‍थ अपोलो हॉस्पिटल के दिल विशेज्ञष विशेषज्ञ के डॉ अमित मित्‍तल अनुसार, दिलअपने बीमार होने की दस्‍तक बेहद शुरूआती दौर पर देना प्रारम्भ कर देता है समस्‍या यह है कि लोग दिल की इन दस्‍तकों को या तो नजरअंदाज कर देते हैं या फिर सामान्‍य बीमारी मानकर खुद ही उसका उपचार प्रारम्भ कर देते हैं ऐसे स्थिति में, दिन ब दिन निर्बल होता दिल एक दिन हार्ट अटैक के तौर पर अपनी आखिरी दस्‍तक दे देता है जिसके बाद, मरीज की जिंदगी को बचाने का फीसदीबहुत सीमति रह जाता है उन्‍होंने बताया कि दिल की बीमारी से पीड़ित हार्ट अटैक जैसी स्थिति से बचना चाहते हैं तो उन्‍हें उन लक्षणों को पहचाना होगा, जो आपके दिल को लगाकार निर्बल होने का इशारा दे रहे हैं

Loading...

हृदय की बीमारी के क्‍या हैं संकेत 
01. बेचैनी या घबराहट
02. हाथ, कमर, गर्दन, जबड़े में दर्द
03. खाने के कुछ देर बाद पेट में दर्द
04. सांस लेने में तकलीफ
05. तेज पसीना आना
06. उल्‍टी की शंका होना
07. चक्‍कर आना
08. व्‍यायाम के बाद सीने में दर्द
09. भारी कार्य करने के बाद सीने में दर्द
10. दिल की धड़कनों का असामान्‍य होना

loading...

कब  कैसे करें डॉक्‍टर से संपर्क
दिल विशेज्ञष विशेषज्ञों के अनुसार, उपरोक्‍त दस लक्षणों में जब भी कोई भी दो लक्षण एक साथ महसूस होने पर मरीज को अपने करीबी दिल रोग विशेषज्ञ से संपर्क करना चाहिए यदि आप में अपना उपचार कराना चाहते हैं, तो कठिनाई से बचने के लिए आपको कुछ बातों का ध्‍यान रखना होगा जिसमें सबसे अहम अपने डॉक्‍टर का अप्‍वाइंटमेंट लेना है अपने डॉक्‍टर का अप्‍वाइंटमेंट लेने के कई तरीके हैं पहला उपाय वेबसाइट है सभी प्रमुख अस्‍पतालों ने अपने दिल विशेषज्ञों की सूची अपनी वेबसाइट में डाल रखी है आप अपने पसंदीदा डाक्‍टर के पेज पर जाकर, वहां से ऑन-लाइन अप्‍वाइंटमेंट बुक करा सकते हैं दूसरा तरीका, अस्‍पताल का फोन नंबर है, जिस पर आप  कॉल कर डॉक्‍टर का अप्‍वाइंटमेंट बुक करा सकते हैं

जानिए:

आपात स्थिति में हॉस्पिटल की इमरजेंसी जाना है बेहतर
आपको तेज बेचैनी, सीने में तेज दर्द, घबराहट जैसे लक्षण महसूस हो रहे हैं तो आपको हॉस्पिटल की इमरजेंसी में जाना चाहिए जांच के बाद इमरजेंसी के ड्यूटी डॉक्‍टर दिल रोग विशेषज्ञ से संपर्क कर उपचार प्रारम्भ कर देंगे यदि आपने पसंद के डॉक्‍टर को ही दिखाना चाहते है तो इस मामले में आप इमरजेंसी के ड्यूटी डॉक्‍टर को बता सकते हैं यदि आप सीनियर डॉक्‍टर को सीधे दिखाना चाहते हैं तो आपके लिए रेफरेंस पत्र महत्वपूर्ण है इसके लिए, वर्तमान में उपचार कर रहे डॉक्‍टर आपको विशेषज्ञ डॉक्‍टर को रिफर कर सकते हैं इसी रेफरेंस के जरिए आप सीनियर डॉक्‍टर से अपनी बीमारी का उपचार करा सकते हैं

AIMM APP से मिलता है इन तीन हॉस्पिटल का अप्‍वाइंटमेंट
दिल रोग विशेषज्ञों का अप्‍वाइंटमेंट लेने के लिए अब आप एम्‍स के मोबाइल ऐप का इस्‍तेमाल भी कर सकते हैं इस मोबाइल ऐप का नाम ‘THE AIIMS APP’ है इसे गूगल प्‍ले स्‍टोर या एम्‍स की आधिकारिक वेबसाइट से हासिल किया जा सकता है यह ऐप एम्‍स के पुराने मरीजों के साथ नए मरीज भी इस्‍तेमाल कर सकते हैं इस ऐप के इस्‍तेमाल से पहले आपको अपना रजिस्‍ट्रेशन इसी ‘THE AIIMS APP’ में कराना होगा इसके बाद, दिल रोग विभाग का विकल्‍प चुनकर आप अपना ऑन लाइन अप्‍वाइंमेंट करा सकते हैं इस ऐप के जरिए डॉ राम मनोहर लोहिया हॉस्पिटल  दिल्‍ली कैंसर इंस्‍टीट्यूट का भी अप्‍वाइंटमेंट लिया जा सकता है

ऐसी स्थिति में नहीं मिलगा 30 दिनों तक नया अप्‍वाइंटमेंट 
‘THE AIIMS APP’ के जरिए ऑन लाइन अप्‍वाइंटमेंट लेने वाले मरीजों को ध्‍यान रखना होगा कि आप एक बार ऑन लाइन अप्‍वाइंटमेंट लेकर डॉक्‍टर को दिखाने नहीं जाते हैं तो आपको अगले 30 दिनों तक एम्‍स कोई नया अप्‍वाइंटमेंट नहीं देगा इससे बचने के लिए आप को अपना ऑन लाइन अप्‍वाइंटमेंट करीब 24 घंटे पहले रद्द कराना होगा

Loading...
loading...